ईटीएफ से निवेश पर संगठन को होने लगा मुनाफा: श्रम मंत्री

ईटीएफ से निवेश पर संगठन को होने लगा मुनाफा: श्रम मंत्रीgaonconnection

नई दिल्ली। कर्मचारी भविष्य निधि कोष संगठन (ईपीएफओ) ईटीएफ के जरिए शेयर बाजारों में अपेक्षाकृत अधिक अनुपात में धन निवेश करने के बारे में सात जुलाई की बैठक में निर्णय करेगी। एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (ईटीएफ) के जरिए निवेश पर संगठन को मुनाफा होने लगा है, यह बात मंगलवार को श्रममंत्री बंडारु दत्तात्रेय ने कही।

दत्तात्रेय ने कामकाज की जगह सुरक्षा से जुड़े मुद्दे पर एक कार्यक्रम में, ‘‘ईटीएफ में ईपीएफओ के निवेश पर एक रपट केंद्रीय न्यासी बोर्ड के समक्ष रखी जाएगी। रिपोर्ट अब अच्छी है, हम निवेश का अनुपात बढ़ाने पर फैसला करेंगे और इससे निवेश की मात्रा भी बढ़ेगी।’’  

कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) की बैठक सात जुलाई को होनी है, उसकी अध्यक्षता श्रम मंत्री करेंगे।  निवेश पर सात जुलाई को विस्तृत विश्लेषण होना है।

एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (ईटीएफ) की यूनिटों को बाजार में शेयरों की तरह ही खरीदा बेचा जा सकता है, इस फंड का पैसा चुनिंदा शेयरों, बांड, जिंस और सूचकांक आधारित अनुबंधों में लगाया जाता है। ईपीएफओ ने पिछले साल अगस्त में ईटीएफ में निवेश शुरू किया था पिछले वित्त वर्ष के दौरान ईपीएफओ में बढ़े हुए कोष का पांच प्रतिशत ईटीएफ में जमा किया गया था। अब इस अनुपात को और बढ़ाने का विचार चल रहा है। मंत्री ने कहा, ‘‘ईपीएफओ के न्यासी विभिन्न संबद्ध पक्षों के साथ परामर्श करने के बाद ईटीएफ में निवेश का अनुपात बढाने के संबंध में फैसला करेंगे।’’ दत्तात्रेय ने कहा, ‘‘पिछले साल यह पांच प्रतिशत था। वित्त मंत्रालय के निवेश पैटर्न के लिहाज से यह 15 प्रतिशत तक जा सकता है।’’ 

मंत्री ने कहा 31 मार्च 2016 तक 6,577 करोड़ रुपए की राशि का निवेश किया था जो 0.37 प्रतिशत बढ़कर 6,602 करोड़ रुपए हो गया। 30 अप्रैल 2016 को 6,674 करोड़ रपए का निवेश 1.68 प्रतिशत बढ़कर 6,786 करोड़ रुपए हो गया।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top