बैक डेट में दी चेक, बहू के नाम बनेगा शौचालय

बैक डेट में दी चेक, बहू के नाम बनेगा शौचालयखुरदइया में दिनेश के घर शौचालय के लिए गड्ढा खोदते लोग व साथ खड़े एडीओ पंचायत। 

अजय मिश्र, गाँव कनेक्शन

कन्नौज। शौचालय न होने को लेकर मायके गई नवविवाहिता के मामले में अधिकारी और कर्मचारी अपनी बचाने में लग गए हैं। उन्होंने बैक डेट की चेक दी है, जिससे वह न फंस सकें। साथ ही चेक रिसीव कराने में भी खेल कर दिया है।जिला कन्नौज के खुरदइया निवासी सुमित शर्मा की 20 वर्षीय पत्नी सुनीता शर्मा ससुराल में शौचालय न होने को लेकर अपने मायके जनपद कानपुर के नौबस्ता के बकतौरीपुर्वा चली गई।

विकास खंड कन्नौज की ग्राम पंचायत टिडियापुर के मजरा खुरदइया निवासी दिनेश शर्मा (55वर्ष) बताते हैं, ‘‘ गुरुवार रात प्रधान ने मुझे 6,000 रुपए की चेक दी है। मैंने हस्ताक्षर नहीं किए हैं। एक दिन पहले फोन किया था, लेकिन यह नहीं कहा था कि चेक ले जाओ। सिर्फ मिलने की बात कही थी। जो कर्मचारी और अधिकारी इससे पहले खाते में आरटीजीएस करने की बात कह रहे हैं वह गलत है। मुझे कोई पैसा नहीं मिला।’’

ये भी पढ़ें- ‘इज्जत’ के लिए दुल्हन ने तीन दिन नहीं खाया ससुराल में खाना, दे दिया अल्टीमेटम

वहीं बीडीओ सदर धर्मेंद्र सिंह यादव बताते हैं, ‘‘एडीओ पंचायत को भेजा था। 28 फरवरी को छह हजार की चेक दी जा चुकी है, लेकिन लाभार्थी ने कहा कि इतने में क्या होगा। पूरा पैसा दो तभी शौचालय बन पाएगा। इसलिए उसने निर्माण प्रारंभ नहीं कराया, सिर्फ शिकायत की। तीन दिन में शौचालय बनवाने का आश्वासन लाभार्थी ने दिया है पूरा पैसा दिलवा दिया गया है।’’

ये भी पढ़ें- अपने पापा से लड़कर घर में बनवाया शौचालय : रीना मौर्या

एडीओ पंचायत सुधीर दुबे बताते हैं कि ‘‘मैंने 28 फरवरी को चेक प्रधान को दे दी थी। आज गांव जाकर स्थिति जानी है। जिसमें ससुर का एक पक्का और एक कच्चा मकान बना है। चार बच्चे हैं। बड़ा मानसिक रूप से ठीक नहीं है। दूसरे बेटे की षादी हुई है। बहू से भी बात की है। इसमें कहानी दूसरी हो सकती है। छह हजार आज प्रधान से नकद दिलवाया। सोमवार तक शौचालय बनवाने का आश्वासन दिनेश ने दिया है। शुक्रवार को मैंने खुद फावड़ा लेकर गड्ढा खोदने की शुरुआत की।’’

ये भी पढ़ें- ऑफिस में महिलाओं के लिए शौचालय न होना भी कार्यक्षेत्र में यौन उत्पीड़न है

‘‘मैंने आपकी खबर का खुद संज्ञान लिया है। एडीओ पंचायत और बीडीओ कन्नौज से बात की है। उन्होंने ढाई महीने पहले छह हजार की किस्त भेजे जाने की बात कही है, लेकिन मांगने पर रिकार्ड अभी तक नहीं दिया है। इससे मामले की सच्चाई पता नहीं चल पाई है।’’

शालिनी प्रभाकर, एसडीएम, सदर

फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top