इस बार बाल श्रमिकों का भी होगा सर्वे

इस बार बाल श्रमिकों का भी होगा सर्वेgaonconnection

बागपत। कूड़ा बीनने वाले, झूठे बर्तन साफ करने वाले या फिर किताबों की बजाय हाथों में हथौड़ा उठाने वाले नौनिहाल भी इस बार शिक्षा की धारा से जोड़ने के लिए शिक्षा विभाग ही चिन्हित करेगा।

अभी तक श्रम विभाग को यह जिम्मेदारी दे रखी थी, लेकिन एक अगस्त से शुरू होने वाले हाउस होल्ड सर्वे में पहली बार बाल श्रमिकों को भी चिन्हित किया जाएगा। शासन ने शिक्षा अधिकारियों को यह जिम्मेदारी दी है और निर्देश दिए हैं कि वह खुद भी ऐसे स्थानों का निरीक्षण कर आउट आफ स्कूल बच्चों की तलाश करेंगे।

गौरतलब है कि बाल श्रमिकों को चिन्हित कर उन्हें बंधन मुक्त कराना और स्कूलों में भिजवाने की जिम्मेदारी श्रम विभाग की है। बकायदा इसके लिए विशेष अभियान भी श्रम विभाग की ओर से चलाया जाता है। श्रम विभाग कारखानों, होटलों, ढाबों आदि पर छापेमारी बाल श्रमिकों को बंधनमुक्त कराता है।

वह शिक्षा की धारा से जुड़े़ हैं या नहीं इस संबंध में श्रम विभाग कोई कदम नहीं उठाता था, लेकिन अब ऐसा नहीं होगा। बाल श्रमिक अब ऐसे स्थानों पर काम भी नहीं करेंगे और शिक्षा विभाग उन्हें शिक्षा की धारा से जोड़ेगा। स्कूल में दाखिला दिलाकर ध्यान भी रखा जाएगा कि बच्चा स्कूल आ रहा है या नहीं? यह सब कुछ हाउस होल्ड सर्वे में होने जा रहा है। 

एक अगस्त से 20 अगस्त तक होने वाले हाउस होल्ड सर्वे में पहली बार बाल श्रमिकों को भी शामिल किया जाएगा। तीन से पांच और छह से 14 साल तक के बाल श्रमिकों को चिन्हित किया जाएगा। खास बात यह होगी कि इसमें शिक्षा अधिकारी ही जिम्मेदारी निभाएंगे। वह निरीक्षण करेंगे और बाल श्रमिकों का डाटा तैयार कराकर उन्हें आसपास के स्कूलों में दाखिला दिलाएंगे।

इसके अलावा अगर आसपास स्कूल नहीं है तो विशेष शिक्षा केंद्रों के माध्यम से उन्हें शिक्षा दिलाई जाएगी। क्योंकि आउट आॅफ स्कूल बच्चों के लिए हर साल विशेष शिक्षा केंद्र खोले जाते हैं। इन शिक्षा केंद्रों पर सेवानिवृत्त शिक्षकों की ड्यूटी लगाई जाती है। राज्य परियोजना निदेशक जीएस प्रियदर्शी ने बीएसए को निर्देश दिए हैं कि श्रम विभाग के अधिकारियों से तालमेल बैठाकर बातचीत की जाए। पता लगाया जाए कि बाल श्रम के अधिक मामले कहां है। सबसे पहले उन क्षेत्रों का ही निरीक्षण किया जाए। उन्होंने निर्देश दिए है कि शिक्षा अधिकारी इसमें किसी भी तरह की लापरवाही न करें, अन्यथा सख्त कार्रवाई होगी।

रिपोर्टर - सचिन त्यागी

Tags:    India 
Share it
Top