इस सरकारी भवन में अफ़सर नहीं जानवर बैठते हैं

इस सरकारी भवन में अफ़सर नहीं जानवर बैठते हैं

बाराबंकी। गाँवो मे खुली बैठको का आयोजन करने के लिये ग्राम स्तर पर लाखो रुपए खर्च करके ग्राम पंचायत बनवाई गई है। इस समय पूरी तरह जर्जर पड़े है। अब इनमे ग्राम पंचायत के सदस्यों व अधिकारियों के बजाय जानवरो की बैठके होती हैं। कई महीने बीत गए यहां बैठक नहीं हुई।

जिला मुख्यालय से 50 किमी दूर दरियाबाद विकास खण्ड के किला बेलहरी में लगभग पांच वर्ष पहले कई लाख रुपए की लागत से सड़क के किनारे ग्राम पंचायत बनवाया गया था। ग्राम सचिव के कार्यालय के साथ ही ग्राम स्तर पर होने वाली बैठको के लिये एक बड़ा सभागार व अतिरिक्त कक्ष का निमार्ण कराया गया। लोगों को पेयजल की सुविधा के लिये एक इण्डिया मार्का हैडपम्प भी लगाया गया था। जानवरों से सुरक्षा के लिये  चारो ओर चहारदीवारी भी बनवाकर गेट लगा दिया गया।

ग्रामीणों के मुताबिक सचिवालय बनने के बाद गांव मे होने वाली बैठकें इसी भवन में आयोजित की जाती थी। अब तो कोई इसकी ओर देखने वाला नहीं है, दीवाल कई जगह टूट चुकी है, गेट का एक हिस्सा चोर तोड़कर उठा ले गये है। अन्दर की खिड़किया व दरवाजे भी गायब हो चुके है। इस समय वहां की दशा बहुत खराब हो गई नल में पानी नहीं आ रहा है। 

गाँव के निवासी नाम न बताने की शर्त पर बताते है, ''यहां पर कभी बैठक नहीं होती, लोग यहां बैठकर ताश खेलते और जानवरों का डेरा रहता है, प्रधान भी कभी ध्यान नहीें देते। जब कोई बैठक होती है तो लोगे प्रधान के घर जाते हैं"|

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top