जब आधे घंटे के लिए टीचर बने सीएम

जब आधे घंटे के लिए टीचर बने सीएमगाँव कनेक्शन

सही जवाब पर बच्चों को दिया 500-500 का नकद इनाम

मैनपुरी। उत्तर प्रदेश की सत्ता संभालने वाले सीएम अखिलेश यादव ने अचानक मैनपुरी पहुंचकर प्राथमिक पाठशाला में शिक्षण व्यवस्था का हाल देखा। सही जवाब देने वाले विद्यालय के 14 बच्चों को नकद 500-500 रुपए का पुरस्कार प्रदान कर शिक्षिका के कार्य व्यवहार की भी जमकर सराहना की।

सैफई जाते समय बुधवार को मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का काफिला जनपद के किशनी थाना क्षेत्र में समान पक्षी विहार में रुक गया। यहां मुख्यमंत्री ने सांसद मैनपुरी तेज प्रताप सिंह यादव और प्रशासनिक अधिकारियों के साथ पक्षी विहार का भ्रमण कर वहां मौजूद पक्षियों के बारे में जानकारी जुटाई। बाद में ग्रामीणों के साथ चौपाल लगाकर उनकी शिकायतें भी सुनीं। उन्होंने ग्रामीणों से कहा कि जिन किसानों की भी जमीन अधिग्रहीत की गई है, उन्हें उचित मुआवजा दिया जाएगा। किसानों के साथ अन्याय नहीं होने दिया जाएगा।

यहां ग्रामीणों से बात करने के बाद मुख्यमंत्री का काफिला अचानक विकास खंड किशनी के प्राथमिक विद्यालय सुखचैनपुर में जा पहुंचा। अचानक मुख्यमंत्री को देखकर समायोजित शिक्षामित्र गायत्री घबरा गई। मुख्यमंत्री ने उन्हें अपने विद्यालय के बच्चों से मुलाकात कराने को कहा। कमरे में पहुंचते ही मुख्यमंत्री सीधे जाकर कुर्सी पर बैठे और बन गए आधे घंटे के लिए एक शिक्षक। 

उन्होंने कक्षा पांच की छात्रा अंजली से राष्ट्रगान सुनाने को कहा। बेझिझक छात्रा के जवाब से संतुष्ट होकर सीएम ने बालिका को नकद 500 रुपये का पुरस्कार प्रदान किया। बाद में कक्षा के 36 अन्य बच्चों से भी सवाल पूछे। सभी के सही जवाब और हाजिर जवाबी देखकर खुश हुए मुख्यमंत्री ने सभी बच्चों को 500-500 रुपए के पुरस्कार से सम्मानित किया। उन्होंने समायोजित शिक्षामित्र गायत्री के कार्य व्यवहार की सराहना करते हुए कहा कि इसी प्रकार से बच्चों के ज्ञान को बढ़ाएं। मुख्यमंत्री ने बच्चों से मिड-डे मील की भी जानकारी जुटाई। बच्चों ने बताया कि उन्हें रोजाना भोजन दिया जाता है।

रिपोर्टर - रतन सिंह

First Published: 2016-09-16 16:04:16.0

Tags:    India 
Share it
Share it
Share it
Top