झाड़ू से नहीं जागरूकता से होगा पर्यावरण शुद्ध: अखिलेश यादव

झाड़ू से नहीं जागरूकता से होगा पर्यावरण शुद्ध: अखिलेश यादवगाँव कनेक्शन

इटावा। प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्वच्छता अभियान पर जमकर प्रहार बोलते हुए अप्रत्यक्ष रूप से कहा कि पर्यावरण के लिए विभिन्न राष्टमंडलों से चर्चा करने वालों के स्वच्छता अभियान में अब कहीं नजर नहीं आते हैं, जो सड़कों की सफाई का दावा करते हैं। मुख्यमंत्री यादव ने कहा कि हमारी सरकार भी लगातार विभिन्न प्रदूषणों की रोकथाम के लिए चिंतित है और लगातार ऐेसे कदम उठाये जा रहे हैं जिससे हम प्रदूषण पर लगाम कस सकें। 

दिल्ली सरकार द्वारा अनुक्रम व व्यतिक्रम नंबर की गाड़ियों पर शुरू किए गये सरकार के प्रयासों के बारे में उन्होंने कहा कि इसके बारे में इसके प्रतिफल आने वाले दिनों में मिलेंगे। मुख्यमंत्री यादव गुरुवार को 25 हजार किमी की साइकिल यात्रा पूरी करने आये तिब्बती साइकिल यात्रियों का स्वागत करते हुए कहा कि ऐसे प्रयास प्रोत्साहन के काबिल हैं। आज लगातार तमाम देश पर्यावरण के प्रति जागरू होकर मंथन कर रहे हैं। इस पर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बहस हो रही है। यही वजह है कि हम लगातार प्रदेशवासियों को पर्यावरण प्रदूषण को खत्म करने के लिए प्रयासरत कर रहे हैं। साइकिल हमारा चुनाव चिह्न होने के बावजूद भी प्रदूषण को रोकने का सबसे बड़ा संवाहक है। देश की आबादी में लगातार इजाफा हो रहा है, जिसके चलते ट्रैफिक भी बढ़ रहा है और हादसों में जिंदगियां जा रहीं हैं। इसके लिए जरूरत है कि साइकिल का व्यापक पैमाने पर प्रचार-प्रसार ही न हो बल्कि साइकिल को प्रचलन की भाषा बनाना पड़ेगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि नदियों के प्रदूषण के बारे में जो चाहे वादे किए गये हों परंतु वास्तविकता यह है कि हमारे प्रांत में बहने वाली यमुना के काले चित्रण को दिल्ली से कलुषित किया जा रहा है। गंगा के शुद्धिकरण पर अप्रत्यक्ष रूप से सवाल उठाते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी नदियों की हालत ऐसी हो गई है कि यदि हम उसको पेयजल के रूप में प्रयोग कर लें तो तमाम बीमारियों की वजह बन जाएंगे। हालात ऐसे नहीं रह गये हैं कि हम अपनी मान्य नदियों को प्रयोग नित्य जीवन में प्रयोग कर सकें।

भूजल असंतुलन पर जताई चिंता

मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने गुरुवार को पत्रकारों के साथ बातचीत करते हुए भूजल के अवयवों में लगातार आ रहे असंतुलन पर गहरी चिंता जताते हुए कहा कि प्रदेश ही नहीं देश के ऐसे तमाम क्षेत्र हैं जहां जमीन से आने वाला पानी तमाम गंभीर बीमारियों का कारण बन गया है। इन हालातों के लिए पर्यावरण में लगातार घुल रहे प्रदूषण को दोषारोपित करते हुए कहा कि हमें पर्यावरण के प्रति जागरूक होना होगा। तेजी के साथ बढ़ती आबादी के मध्य ही सड़कों पर ट्रैफिक बढ़ा है और इससे प्रदूषण का बढ़ना लाजिमी है। इस ट्रैफिक के संचालन से जहां हादसों में वृद्धि हुई है तो वहीं प्रदूषण में भी इजाफा हुआ है। हम अपने सरकारी तंत्र से इस पर रोक लगाने का प्रयास तो कर रहे हैं, परंतु इसके लिए प्रभावी जागरूकता की जरूरत हैं। उन्होंने कहा कि साइकिल के प्रयोग से न सिर्फ हम प्रदूषण को रोक सकते हैं बल्कि अपने शरीर को भी स्वस्थ रख सकते हैं।

नमस्ते से किया तिब्बतियों ने सीएम का स्वागत

सैफई के मास्टर चंदगीराम स्टेडियम में उस समय भारतीय संस्कृति नजर आई जब साइकिल यात्रा पर आये विभिन्न साइकिल यात्रियों ने प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का अभिवादन देश की प्रचलित संस्कृति से ओतप्रोत नमस्ते के अभिवादन से किया। सूबे के मुख्यमंत्री यादव ने भी आगंतुक अतिथियों का अपने अंदाज में हर अंदाज में स्वागत किया। साइकिल यात्रियों के साथ मिलकर उन्होंने साइकिल भी चलाई तथा उनके साथ अंग्रेजी भाषा में संवाद भी कायम किया। दो दर्जन से अधिक साइकिल यात्री इस दौरान खासे गदगद नजर आये। मुख्यमंत्री यादव ने इस दरम्यान अपनी व्यस्तताओं को भी दरकिनार कर दिया और लखनऊ से आकर कुछ लम्हें साइकिल यात्रियों के साथ बिताने के बाद वापस हो लिए।

सीएम की मौजूदगी से गदगद हुए तिब्बती

विशेष तौर पर मुख्यमंत्री अखिलेश यादव द्वारा स्वागत करने से खुश हुए तिब्बती यात्री खासे गदगद नजर आये। इन यात्रियों का कहना था कि मुख्यमंत्री का आगमन उनके लिए किसी रोचक से कमतर नहीं था। अनुभवों के आधार पर प्रत्येक तिब्बती यात्री के जेहन में इस बात के लिए प्रसन्नता थी कि उनके आगमन के प्रति मुख्यमंत्री अखिलेश यादव में उत्साह था। मुख्यमंत्री यादव ने भी उनके स्वागत में कमी नहीं की। 

नववर्ष की सीएम ने दीं शुभकामनाएं

अपने अल्पकालिक भ्रमण पर आये प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने सैफई के मास्टर चंदगीराम स्टेडियम में एक सवाल के जबाव में प्रदेश के सभी नागरिकों को नव वर्ष की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि उनका आने वाला समय सुखद, स्फूर्ति भरा व आनंददायक हो। इसके लिए वे कामना करते हैं।

रिपोर्टिंग - मसूद तैमूरी 

Tags:    India 
Share it
Top