जनसुनवाई पोर्टल से रखी जाएगी समस्याओं पर निगाह: अखिलेश यादव

जनसुनवाई पोर्टल से रखी जाएगी समस्याओं पर निगाह: अखिलेश यादवगाँव कनेक्शन

लखनऊ। जनता की छोटी-छोटी समस्याओं और शिकायतों को निपटाने के लिए जनसुनवाई पोर्टल का शुभारंभ सोमवार को प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने किया। इस दौरान उन्होंने देश की पहली मीडिया हेल्पलाइन का भी शुभारम्भ किया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि जनता की छोटी-छोटी समस्याओं एवं शिकायतों के निस्तारण पर मुख्यमंत्री कार्यालय से जन सुनवाई पोर्टल के माध्यम से निगाह रखी जाएगी। इससे लोगों को राहत मिलेगी और उनकी शिकायतों के निस्तारण में गुणवत्ता आएगी। इस समन्वित शिकायत निवारण प्रणाली की विशिष्टताओं का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री कार्यालय, जिलाधिकारी एवं पुलिस अधीक्षक कार्यालय, तहसील दिवस व ऑनलाइन माध्यम से प्राप्त शिकायतों का निस्तारण इसी पोर्टल के माध्यम से किया जाएगा। 

उन्होंने कहा कि 20 फरवरी, 2016 से अन्य राज्य स्तरीय कार्यालयों में ऑनलाइन आवेदन करने की सुविधा भी इस प्रणाली के माध्यम से उपलब्ध हो जाएगी। इसमें ई-मार्किंग के जरिए जनता की शिकायतें व आवेदन, सम्बंधित अधिकारियों एवं विभागों को इलेक्ट्रॉनिक माध्यम से भेजे जाएंगे, जिससे निस्तारण में गति आएगी। लोग अपनी शिकायतें एवं आवेदन घर बैठे ऑनलाइन कर सकते हैं, जिससे लोगों को अनावश्यक विभिन्न कार्यालयों में आने-जाने से राहत मिलेगी।

उन्होंने कहा कि शिकायतों के निस्तारण की स्थिति पर इसी पोर्टल द्वारा जानकारी प्राप्त की जा सकेगी और यदि निस्तारण की गुणवत्ता ठीक नहीं है तो इसी पोर्टल पर अपनी बात पुन: लिखने की सुविधा मिलेगी। इस पोर्टल पर आने वाली शिकायतों पर सीधे उनके कार्यालय द्वारा सतत नजऱ रखी जाएगी। उन्होंने कहा कि शिकायतों के निस्तारण एवं अन्य प्रकरणों में फीडबैक प्राप्त करने के लिए अलग से कॉल सेण्टर भी स्थापित किया जा रहा है। 

राज्य सरकार के इस प्रयास से गवर्नेन्स में सहूलियत होगी। उन्होंने कॉफी टेबल बुक अखिलेश यादव-संघर्ष की सफलता के लिए उन्हें बधाई देते हुए कहा कि यह उनके जीवन के संघर्ष को ताज़ा करने जैसा है।

मुख्यमंत्री ने प्रदेश के सूचना विभाग द्वारा मीडिया कर्मियों की सुविधा के लिए जारी की गई टोल फ्री मीडिया हेल्पलाइन के लिए प्रमुख सचिव सूचना नवनीत सहगल की प्रशंसा करते हुए कहा कि इससे मीडिया कर्मियों को अपनी समस्याओं एवं कठिनाइयों को शासन के संज्ञान में लाने में सहूलियत होगी। उन्होंने अमृतलाल नागर पर आधारित विशेषांक की सराहना करते हुए कहा कि इस प्रकार के प्रयास से राज्य के लेखकों एवं साहित्यकारों के विचारों को जन-जन तक पहुंचाने में मदद मिलती है। 

उत्तर प्रदेश भाषा संस्थान के कार्यकारी अध्यक्ष एवं प्रख्यात कवि डॉ. गोपालदास नीरज ने मुख्यमंत्री द्वारा किए जा रहे तमाम विकास कार्यों के साथ-साथ साहित्यकारों के लिए किए गए कल्याणकारी कार्यों की भी सराहना की। 

मुख्य सचिव आलोक रंजन ने कहा कि जन-सुनवाई पोर्टल से जनता की समस्याओं के सही निस्तारण तथा अनुश्रवण में मदद मिलेगी। उन्होंने इसे गवर्नेन्स रिफॉर्म की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम बताते हुए कहा कि अगले तीन महीने में कॉल सेण्टर काम करने लगेगा, जिसका सीधा लाभ प्रदेश की जनता को मिलेगा।

प्रमुख सचिव सूचना नवनीत सहगल ने तकनीक के सहारे प्रशासन को बेहतर बनाने की प्रक्रिया का जिक्र करते हुए कहा कि राज्य सरकार जनता की समस्याओं के निदान के लिए लगातार काम कर रही है। उन्होंने कहा कि मीडिया के क्षेत्र में कार्य करने वाले लोगों के लिए मीडिया हेल्पलाइन चौबीस घण्टे काम करेगी।

Tags:    India 
Share it
Top