जुआंरियों का अड्डा बना आंगनबाड़ी केंद्र

जुआंरियों का अड्डा बना आंगनबाड़ी केंद्रgaonconnection

पीलीभीत। जिला मुख्यालय से 15 किमी दूर पर ब्लॉक बरखेड़ा के गाँव खमरिया में बना आंगनबाड़ी केन्द्र जुआरियों का अड्डा व जानवरों के बैठने की आरामगाह बन गया है। इस सम्बन्ध में ग्रामीणों की शिकायत है कि जब से यहां आंगनबाड़ी केन्द्र का निर्माण हुआ तब से न तो इस आंगनबाड़ी केन्द्र का ताला खुला और न ही यहां कोई आंगनबाड़ी कार्यकत्री बच्चों को शिक्षा देने आती है।

बरखेड़ा ब्लाक के गाँव खमरिया में सरकार द्वारा भारी भरकम धनराशि खर्च कर लगभग 2011-12 में इस आंगनबाड़ी केन्द्र का निर्माण कराया गया था, जिसका उद्देश्य था कि इससे गाँव के नौनिहालों का भविष्य सुधरेगा, लेकिन यह मंसूबा भी पूरा नहीं हो सका। अब ग्रामीण अपने-अपने नौनिहालो को प्राइवेट स्कूलों व अन्य जगहों पर भेजते हुए नज़र आ रहे हैं।

ग्रामीण धनश्याम कहते हैं, "इस आंगनबाड़ी केन्द्र पर कभी न ही कोई कार्यकत्री आती है और न ही इसका ताला खुलता है।" जब गाँव कनेक्शन रिपोर्टर ने इस क्षेत्र में भ्रमण कर देखा तो कई जगह आंगनबाड़ी केन्द्र बदहाल स्थिति में मिले। आंगनबाड़ी केन्द्र के आस-पास बने शौचालय भी पूरी तरह से क्षतिग्रस्त है और उनका सीवर भी बुरी तरह से भरा हुआ है। कही आंगनबाड़ी केन्द्र के दरवाजे टूटे हैं तो कहीं चाहर दीवारी। केंद्रों में इस प्रकार की स्थिति होने पर यह बात साफ है कि सरकार के ये सभी मंसूबे विफल होते नजर आ रहे है। सरकार भी इन सभी मासूम नौनिहालों की शिक्षा और स्वास्थ्य के लिए लगातार तमाम प्रयास कर रही है। 

इस बारे में जब बाल विकास परियोजना अधिकारी बरखेड़ा श्रीमती जैबुन्निशां से दूरभाष पर वार्ता करनी चाही तो उनसे सम्पर्क नहीं हो सका। इन दिनों सरकारी अधिकारियों के सीयूजी नम्बरों की दशा इतनी खराब है या तो फोन लगते ही नहीं है या जब फोन लगते है तो कॉल रिसीव नहीं की जाती है। 

रिपोर्टर - अनिल चौधरी 

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top