केरल: मंदिर में बड़ा हादसा, 106 की मौत 400 से ज्यादा घायल

केरल: मंदिर में बड़ा हादसा, 106 की मौत 400 से ज्यादा घायल

कोल्लम (भाषा)। केरल के कोल्लीम जिले के पुत्तिंगल मंदिर में रविवार सुबह 3 बजे के करीब भीषण आग गई। अधिकारियों के मुताबिक, इस भीषण आग के चलते हुए हादसे में 106 लोगों की मौत हो गई जबकि 386 लोग घायल हो गए। कोल्लम के पुत्तिंगल देवी मंदिर में आग लगने की घटना के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वहां का दौरा किया और हालात का जायजा लिया।

केरल के मुख्यमंत्री ओमन चांडी और गृह मंत्री रमेश चेन्नीतला प्रधानमंत्री को परिसर के पास ले गए और उन्हें घटना की जानकारी दी। यहां दो इमारतों के मलबे बिखरे थे, जिनमें ‘कंबापुरा’ गोदाम शामिल है, जहां पटाखे और आतिशबाजी की चीजें रखी हुई थीं। विस्फोट में ये इमारतें पूरी तरह जलकर खाक हो गईं। प्रधानमंत्री वहां करीब 10 मिनट तक रहे। बाद में चेन्नीतला ने संवाददाताओं से कहा कि प्रधानमंत्री ने अज्ञात शवों की जानकारी ली और कहा कि जरूरी होने पर उनकी डीनए जांच कराई जाए।

मुख्यमंत्री ओमन चांडी ने पीएम मोदी से कहा कि उनकी सरकार घटना को लेकर पहले ही कदम उठा चुकी है। चेन्नीतला ने कहा कि प्रधानमंत्री ने प्रभावित लोगों को दिए जाने वाले मुआवजे के बारे में भी पूछा। प्रधानमंत्री बाद में घायलों को देखने कोल्लम जिला अस्पताल गए। सरकार ने हेल्पलाइन नंबर भी जारी किया है  0474 2512344, 949760778 और 949730869 

मंदिर में उत्स व के दौरान पटाखों में आग लगने की वजह से ये हादसा हुआ। हमारी संवाददाता उमा सुधीर के मुताबिक, डेढ़ किलोमीटर की दूरी तक इस आग का असर पड़ा है। केरल में पारंपरिक रूप से इस उत्सव में प्रथाओं की समाप्ति के बाद आतिशबाजी की जाती है। मंदिर की छत पूरी तरह से जल कर खाक हो गई। साथ ही मंदिर का एक हिस्सा भी गिर गया है।

पीएम ने किया मुआवजे का ऐलान 

न्यूज एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, चांडी ने घोषणा की है कि मृतकों के परिवार को 10-10 लाख रुपए दिए जाएंगे और गंभीर रूप से घायलों को 2-2 लाख रुपए दिए जाएंगे। पीएम मोदी ने हादसे पर दुख व्यक्त करते हुए मरने वाले लोगों के निकटतम संबंधी को दो-दो लाख रुपये और घायलों को पचास 50-50 हजार रुपये का मुआवजा देने का ऐलान किया। जिस समय यह हादसा हुआ, वहां 10 हजार से ज्यादा लोग मौजूद थे। घायलों को त्रिवेंद्रम मेडिकल कॉलेज समेत अन्य अस्प तालों में भर्ती करवाया गया है। 10 अस्पतालों में इलाज की व्यवस्था की गई है। कोल्लम जिले के कलेक्टर ए शानामोबल ने बताया कि आतिशबाज़ी को लेकर हो रही होड़ यानी की इजाज़त नहीं थी, बावजूद इसके ऐसा हुआ। पीटीआई न्यूज एजेंसी के मुताबिक, पुलिस ने मंदिर प्रशासन के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। पुलिस ने बताया कि यह दुर्घटना गोदाम ‘कंबापुरा’ में चिनगारियां गिर जाने पर हुई। इसके कारण तड़के साढ़े तीन बजे भारी आवाज के साथ भीषण विस्फोट हुआ। विस्फोट की आवाज एक किलोमीटर के दायरे तक सुनी जा सकती थी। प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि बिजली आपूर्ति के ठप्प हो जाने के कारण पूरा इलाका अंधेरे में डूब गया और लोग इधर-उधर दौड़ने लगे। फुटेज में साफ देखा जा सकता है कि किस तरह रात के समय धुएं का गुबार उठा। कंक्रीट के परखच्चे उड़कर दूर दूर तक जा गिरे।

एयरफोर्स और नौसेना भी राहत कार्य में जुटी 

एयरफ़ोर्स के 4 हेलीकॉप्टर राहत और बचाव के काम में जुटे हुए हैं। इसके अलावा नौसेना भी राहत के काम में जुटी है। एनडीआरएफ़ की चार टीमों को चेन्नई में स्टैंडबाई पर रखा गया है। डॉक्टरों की छुट्टियां रद्द करके उन्हें बुला लिया गया है।

पीएम ने ट्वीट कर दुख जताया

पीएम मोदी भी ने ट्वीट करके संवेदना व्यक्त की। पीएम ने मौक़े पर राहत के काम में जुटे अधिकारियों को कहा है कि वे प्रोटोकॉल पर नहीं बल्कि बचाव के काम पर ध्यान दें।

मंदिर प्रशासन ने चेतावनियों को किया नजरअंदाज

स्थानीय मीडिया ने कोल्लम जिला अधिकारियों के हवाले से कहा कि मंदिर प्रशासन ने ऐसी दुर्घटना के लिहाज से संवेदनशील इस इलाके में भारी आतिशबाजी करने के खिलाफ जारी की गई चेतावनियों को नजरअंदाज कर दिया। पुलिस ने कहा कि जिला कलेक्टर शिनामोल ने मौके का दौरा किया और कहा कि बचाव और निकासी अभियान पूरे जोर-शोर से चल रहा है। दुर्घटना में पूरी तरह नष्ट हो चुके कॉन्करीट ढांचों में फंसे लोगों को बाहर निकाला जा रहा है।

Tags:    India 
Share it
Share it
Share it
Top