बंपर मुनाफे के लिए इस तरीके से करें फूल गोभी की खेती, तस्वीरों में देखिए गोभी की यात्रा

बंपर मुनाफे के लिए इस तरीके से करें फूल गोभी की खेती, तस्वीरों में देखिए गोभी की यात्राफूल गोभी की खेती।

फूल गोभी की खेती आम तौर पर सितंबर से अक्टूबर महीने में की जाती है, लेकिन फूल गोभी की कुछ ऐसी प्रजातियां हैं जिनकी खेती अभी भी की जा सकती है। इसके साथ ही जो किसान इस समय फूल गोभी की खेती करते हैं उनकी फूल गोभी महंगी कीमत में बिकती है, जिससे किसान को अधिक मुनाफा होता है।

मध्य प्रदेश के हरदा जिले के खिरकिया गाँव के किसान आशीष वर्मा ने पिछले वर्ष एक एकड़ में गोभी की खेती की थी, जिससे उन्हे करीब एक लाख 80 हज़ार रुपए की कमाई हुई थी। ''जब मैं फूल गोभी लगाने की सोच रहा था तब मैने सोचा कि फूल गोभी की कोई ऐसी किस्म लगाऊं जो गर्मियों में फसल दे, क्योंकि उस समय गोभी बज़ार में बहुत कम होती है जिससे रेट अच्छे मिल सकते हैं।'' आशीष वर्मा ने बताया, ''मैने सिजेंटा की लकी प्रजाति की गोभी लगाई, इसकी नर्सरी की बुवाई दिसंबर अंत तक की जा सकता है।''

फूल गोभी की ऐसी कई प्रजातियां हैं जिनकी बुवाई अभी भी की जा सकती है और जनवरी में उसकी रोपाई की जा सकती है।

ये भी पढ़ें- जानिए किसान अच्छी पैदावार के लिए किस महीने में करें किस सब्ज़ी की खेती

भारत में करीब तीन हज़ार हेक्टेयर में फूल गोभी की खेती की जाती है, जिससे तकरीबन 6,85,000 टन उत्पादन होता है। उत्तर प्रदेश तथा अन्य ठंढे स्थानों में इसका उत्पादन बड़े पैमाने पर किया जाता है। लेकिन अब इसे सभी स्थानों पर उगाया जाता है।

ये भी पढ़ें- किसान पाठशाला में दी गई जैविक तरीके से कीट व रोग नियंत्रण की जानकारी 

आशीष ने बताया, ''22 से 25 दिन में फूल गोभी की नर्सरी तैयार हो जाती है उसके बाद इसकी रोपाई की जाती है। एक एकड़ में 18 से 20 हज़ार पौधे लगते हैं। 70-75 दिन में फसल तैयार हो जाती है।'' खेती में आने वाली कुल लागत के बारे में उन्होंने बताया, ''नौ हज़ार रुपए के फूल गोभी के 100 ग्राम बीज मिले थे। 1500 रुपए एक एकड़ में मजदूरों से रोपाई करने के पड़े थे, उसके बाद 1200 रुपए की यूरिया, 5000 रुपए की दवाई और तीन हज़ार रुपए दो बार निराई करने में खर्च हुए।''

ये भी पढ़ें- किसान और खेती को बचाना है तो उठाने होंगे ये 11 कदम : देविंदर शर्मा

आशीष ने बताया कि जब फसल तैयार हो गई तो मैने उसे थोक में बेच दिया था जिस वजह से प्रति फूल फूल सिर्फ 10 रुपए मिले, अगर फुटकर बेचता तो 15-20 रुपए मिलते। लेकिन उसके बावजूद तरीब एक लाख 80 हज़ार रुपए की कमाई हुई। जबकि कुल कर्चा 20 हज़ार रुपए तक ही आया था। इस हिसाब से अगर देखें तो करीब डेढ़े लाख रुपए का मुनाफा हुआ।

ये भी पढ़ें- पश्चिमी यूपी के 50 फीसदी किसान नहीं कर सके गेहूं की बुवाई 

ये भी पढ़ें- कोई आया शिकागो से तो किसी ने छोड़ी नेवी की नौकरी, अब सीख रहे ज़ीरो बजट खेती

ये भी पढ़ें- जैविक गुड़ बनाकर एक एकड़ गन्ने से कमा रहे डेढ़ से ढाई लाख रुपए मुनाफा

ये भी पढ़ें- एलोवेरा की खेती का पूरा गणित समझिए, ज्यादा मुनाफे के लिए पत्तियां नहीं पल्प बेचें, देखें वीडियो

ये भी पढ़ें- स्ट्रॉबेरी है नए ज़माने की फसल : पैसा लगाइए, पैसा कमाइए

ये भी पढ़ें- तस्वीरों में देखें एलोवेरा की खेती और प्रोसेसिंग

ये भी पढ़ें- डॉक्टर ने पेड़ पौधों पर किया होम्योपैथिक दवा का इस्तेमाल, आए चौंकाने वाले नतीज़े

ये भी पढ़ें- अब किसान भी उगा सकेंगे मधुमेह रोकने की दवाई 

First Published: 2017-12-28 18:58:54.0

Share it
Share it
Share it
Top