दलहनों का समर्थन मूल्य प्रति कुंतल 600 रुपये तक बढ़ेगा

दलहनों का समर्थन मूल्य प्रति कुंतल 600 रुपये तक बढ़ेगाप्रतीकात्मक फोटो

नई दिल्ली (भाषा)। रबी फसलों की बुवाई की तैयारियों के बीच केंद्रीय मंत्रिमंडल इस मौसम के दलहनों के न्यूनतम समर्थन मूल्यों (एमएसपी) में प्रति क्विंटल 600 रुपये तक की वृद्धि करने पर विचार कर सकता है।

सरकार 2016-17 के लिए गेहूं का एमएसपी 100 रुपये बढ़ा कर 1,625 रुपये प्रति क्विंटल कर सकती है। सूत्रों ने बताया, रबी फसलों के एमएसपी के संबंध में कृषि मंत्रालय के प्रस्ताव को मंत्रिमंडल में किसी भी समय रखा जा सकता है क्यों कि जाड़े की फसलों की बुवाई इस महीने शुर होगी। दलहनों को छोड़कर कृषि मंत्रालय ने 2016-17 के लिए जाड़े की फसलों के एमएसपी के बारे में कृषि लागत एवं मूल्य आयोग की सभी सिफारिशों को मंजूर कर लिया है।

सरकार ने 200 रुपए के बोनस का प्रस्ताव

सूत्रों ने एक मंत्रिमंडलीय परिपत्र में बताया कि मंत्रालय ने सीएसीपी द्वारा सुझाये गये दलहन के एमएसपी से ऊपर 200 रुपये प्रति क्विंटल का बोनस देने का प्रस्ताव किया है। जिसके बाद चना और मसूर के समर्थन मूल्य में कुल वृद्धि इस वर्ष 600 रुपये प्रति क्विंटल की होगी।

कृषि मंत्रालय ने घरेलू उत्पादन को बढ़ाने, देश की इसके लिए आयात पर निर्भरता को कम करने और कीमतों पर अंकुश रखने के लिए रबी सत्र के लिए बोनस सहित चना और मसूर के समर्थन मूल्य 4,000-4,000 रपये प्रति क्विंटल करने का प्रस्ताव किया है।

गेहूं का एमएसपी 1625 रुपए करने का प्रस्ताव

पिछले वर्ष मसूर और चना का एमएसपी 75 रुपये प्रति क्विंटल का बोनस शामिल करते हुए क्रमश: 3,500 रुपए और 3,400 रुपये प्रति क्विंटल निर्धारित किया गया था। गेहूं के मामले में मंत्रालय ने एमएसपी में 100 रुपये की वृद्धि कर इसे इस वर्ष के लिए 1,625 रुपये प्रति क्विंटल कीले का प्रस्ताव किया है जो पिछले साल 1,525 रुपये प्रति क्विंटल था। रबी सत्र में उगायी जाने वाली गेहूं प्रमुख फसल है और इसकी बुवाई जल्द शुरू होगी। रबी फसलों का विपणन काम अप्रैल से शुरू होने वाले वर्ष 2017-18 में शुरू होगा। एमएसपी वह दर है जिस दर पर सरकार किसानों से अनाज की खरीद करती है।

Share it
Top