बैक्टीरियल ब्लाइट के लिए प्रतिरोधी धान विकसित

सीएसआईआर और आईआरआरआई के ने संयुक्त प्रयास से बैक्टीरियल ब्लाइट प्रतिरोधी धान की किस्म उन्नत साम्बा महसूरी विकसित की है। यह किस्म अलग-अलग बैक्टीरियल ब्लाइट रोगजनकों से प्रतिरोधी है। इसका उत्पादन भी ज्यादा है।

बैक्टीरियल ब्लाइट के लिए प्रतिरोधी धान विकसित

लखनऊ। सीएसआईआर और आईआरआरआई के ने संयुक्त प्रयास से बैक्टीरियल ब्लाइट प्रतिरोधी धान की किस्म उन्नत साम्बा महसूरी विकसित की है। यह किस्म अलग-अलग बैक्टीरियल ब्लाइट रोगजनकों से प्रतिरोधी है। इसका उत्पादन भी ज्यादा है।

कम पानी में धान की ज्यादा उपज के लिए करें धान की सीधी बुवाई

इस बीमारी से धान के पत्ते पीले पड़ जाते हैं और सूखने लगते हैं जिसकी वजह से पौधे का पूरी तरह से विकास नहीं हो पाता है। यह एक प्रकार की संक्रमक बीमारी है। एक खेत से दूसरे खेत में फैलने लगती है। जैसे-जैसे बीमारी बढ़ती है, पत्तियां पीले रंग से भूरे रंग में बदल जाती है। आमतौर पर यह माना जाता है जब तेज हवाओं और लगातार भारी बारिश होती है तब इस बीमारी को बीमारी पैदा करने वाले जीवाणु संक्रमित पौधों से फैलते हैं। संक्रमित पत्तियां भूरे रंग के हरे रंग की हो जाती हैं और रोल हो जाती हैं।

धान की खेती की पूरी जानकारी, कैसे कम करें लागत और कमाएं ज्यादा मुनाफा


सीएसआईआर और आईआरआरआई ने करीब 10 साल तक संयुक्त प्रयास करके इस बीमारी के प्रतिरोधी किस्म को विकसित किया है। गुरुवार को लखनऊ स्थित सीएसआईआर में करीब 100 उन्नतशील किसानों को दस-दस किलो के धान के बीज का पैकेट दिया जाएगा। इस दौरान दोनों संस्थाओं के विशेषज्ञ इन उन्नत किस्म के बीज के बारे में विस्तृत जानकारी देंगे।

पानी की कमी से जूझ रहे पश्चिम बंगाल के किसानों ने खोजा बोरो धान का विकल्प

धान नर्सरी डालने से पहले करें बीजोपचार, मिलेगी अच्छी उपज

Share it
Top