गन्ने-भिंडी की एक साथ कर रहे खेती, कमा रहे दोहरा लाभ

गन्ने-भिंडी की एक साथ कर रहे खेती, कमा रहे दोहरा लाभगन्ने और भिंडी की खेती एक साथ।

रबीश कुमार, स्वंय कम्युनिटी जर्नलिस्ट

फैजाबाद। जनपद के किसान इन दिनों ज्यादा मुनाफा कमाने के लिए एक साथ दो फसलों की बुवाई कर रहे हैं। किसान गन्ने और भिंडी की खेती एक साथ कर रहे हैं। इससे गन्ने की फसल भी अच्छी होती है और भिंडी उत्पादन में भी समस्या नहीं आती। किसानों की माने तो वे एक साथ दोनों फसलों की बुवाई करके प्रति एकड़ में लगभग 40 से 50 हजार रुपए अतिरिक्त कमा रहे हैं।

खेती किसानी से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

किसान अमरेंद्र कुमार वर्मा बताते हैं कि 'हम लोग कई वर्षों से गन्ने और भिंडी की खेती एक साथ कर रहे हैं। भिंडी की फसल से गन्ने को कोई भी नुकसान नहीं होता, बल्कि और अच्छा ही होता है। वहीं भिंडी की फसल से गन्ने में लगने वाली सारी लागत निकल आती है और इससे घर का खर्चा भी आसानी से चल जाता है।'

कैसे करते हैं एक साथ खेती

गन्ने की खेत में भिंडी बोने के लिए प्राति एकड़ में लगभग 5-6 किग्रा बीज लगता है। बुवाई करने से पहले भिंडी को रातभर पानी में भिंगो देना चाहिए। गन्ने की दो पंक्ति के बीच भिंडी के लिए 50 किग्रा डीएपी तथा 25 किग्रा पोटाश का प्रयोग करें। गन्ने की पंक्ति के बीच भिंडी की दो पंक्ति बोएं। पंक्ति से पंक्ति के बीच की दूरी दूरी 30-35 सेमी व कतारों में पौधे की बीच 25-30 सेमी का अंतर रखा जाता है। बीज की दो से तीन सेमी गहरी बुवाई की जाती है। वहीं खरपतवार मुक्त रखना चाहिए। इसे बोने के 15-20 दिन बाद निराई-गुड़ाई करना जरूरी रहता है। सिंचाई सात-आठ दिन के अंतराल पर बराबर करते रहना चाहिए, ताकि नमी बनी रहे।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Share it
Share it
Top