बिजली की समस्या के चलते कृषि ऐप का उपयोग नहीं कर पा रहे यूपी के किसान 

बिजली की समस्या के चलते कृषि ऐप का उपयोग नहीं कर पा रहे यूपी के किसान प्रतीकात्मक फोटो।

पीलखाना (भाषा)। राम कुमार के घर में जैसे ही बल्ब जली, उन्होंने अपना स्मार्टफोन चार्ज करना शुरू कर दिया, क्योंकि करीब आठ घंटे के बाद बिजली आई थी। उन्होंने यह सोचते हुए फोन खरीदा था कि फोन का ऐप न सिर्फ उनका मनोरंजन करेगा, बल्कि आधुनिक खेती और फसलों की बिक्री के बारे में संबंध में सलाह और जानकारी भी देगा। कुमार उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ जिले के पीलखाना गांव के रहने वाले हैं। इस गांव में 11,000 लोग रहते हैं। कुमार अपने गांव के ऐसे किसानों में से एक हैं, जिन्हें आशा थी कि कृषि ऐप के लॉन्च के बाद उनकी जिंदगी बदलेगी। उन्हें उम्मीद थी कि ऐप से उन्हें मौसम, उम्दा बीज और फसल लगाने से लेकर बेचने तक की जानकारी मिलेगी।

ये भी पढ़ें : जानिए किस तरह किसानों के लिए मददगार साबित हो रहें खेती संबंधित मोबाइल ऐप

पांच घंटे से 12 घंटे तक की बिजली कटौती और खराब इंटरनेट कनेक्शन की वजह से ऐप का उपयोग किसान कम ही कर पाते हैं। कुमार को इस परेशानी का सामना ऐसे समय में करना पड़ रहा है, जब सरकार ग्रामीण क्षेत्रों में डिजिटल तकनीक को बढ़ावा दे रही है। पिछले दो वर्षों में सरकार ने राष्ट्रीय बाजार 'ई-नाम‘ ऐप सहित कृषि से संबंधित नौ ऐप शुरू किए हैं।

ये भी पढ़ें : यूपी में महिलाओं के लिए लॉन्च हुआ जागृति ऐप

उत्तर प्रदेश के कई हिस्सों में कृषि ऐप लगभग बेकार ही हैं, क्योंकि राष्ट्रीय स्तर पर 67 फीसदी बिजली कनेक्शन की अपेक्षा यहां 37 फीसदी घरों में ही बिजली कनेक्शन है।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top