गेहूं की कम पैदावार से किसान परेशान

गेहूं की कम पैदावार से किसान परेशानगेहूं की कम पैदावारी के कारण किसान परेशान।

रामू गौतम, स्वयं कम्युनिटी जर्नलिस्ट

लखनऊ । इस समय गेहूं की कटाई व मढाई का कार्य तेजी से चल रहा है। जिले में पिछले वर्ष की तुलना में इस वर्ष गेहूं की पैदावार कम हुई है। गेहूं व अरहर की पैदावार कम होने से किसान के चेहरे पर चिंता की लकीर देखने को मिल रही है।

राजधानी लखनऊ से करीब 45 किमी दूरी पर मलिहाबाद क्षेत्र के गांव गड़ियांखेड़ा निवासी राजाराम यादव (70 वर्ष) कहते हैं, “ मेरे पास दो बीघा जमीन है। मौसम बेकार रहा। अबकी बार गेहूं कम और भूसा ज्यादा निकल रहा है। इस बार पूरे वर्ष भर खाने के लिए भी गेहूं पूरा नहीं पड़ेगा।”

खेती किसानी से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

ग्राम भीमखेड़ा निवासी लालता प्रसाद (34 वर्ष) ने बताया, “अरहर भी इस साल धोखा दे गई। सरकार ने गेहूं पर समर्थन मूल्य 100 रुपए बढ़ा दिया है। इस से हम लोगों को थोड़ी राहत जरूर मिली है। जरुरत पड़ी तो गेहूं बेचने पर अधिक रुपया मिलेगा।”

बाकीनगर निवासी राम प्रसाद (70 वर्ष) ने बताया, “ हमारे खेत से पांच कुंतल गेहूं की पैदावार हुई है। जब गेहूं महंगा होगा तो बेचूंगा।”गाडियारा निवासी रामजीत यादव (50 वर्ष) ने बताया, “गेहूं की बुआई में खर्च ज्यादा और पैदावार कम हुई है। रासायनिक खाद से खेत दिन प्रतिदिन बाँझ होते जा रहे हैं, इससे किसान परेशान हैं।”

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top