कानपुर, कन्नौज, सुल्तानपुर, उन्नाव और बाराबंकी में सैकड़ों बीघा फसल जलकर राख 

कानपुर, कन्नौज, सुल्तानपुर, उन्नाव और बाराबंकी में सैकड़ों बीघा फसल जलकर राख राख हो गई फसल, अब कैसे होगी बेटियों की शादी।

राजू भदौरिया (स्वयं कम्युनिटी जर्नलिस्ट)

सौरिख (कन्नौज)। आग ने रविवार को जमकर तांडव मचाया। शार्ट-सर्किट से कन्नौज, बाराबंकी, सुल्तानपुर और कानपुर में लगी आग से सैकड़ों बीघे फसल जलकर खाक हो गई।

दो किसानों को अपनी बेटियों की आषाढ़ में शादी करनी है। बरातियों और जनातियों को खिलाने के लिए गेहूं की फसल तैयार हो चुकी थी, लेकिन आग ने इन किसानों के लिए ऐसा कहर ढाया कि एक भी दाना नहीं छोड़ा। मगर अब रिश्तेदारों की तो बात दूर, परिवार को रोटी खिलाने के भी लाले पड़ गये।

जिला मुख्यालय से करीब 55 किमी दूर बसे सौरिख थाना इलाके के गाँव गुबरिया में रविवार को आग ने खूब तांडव मचाया। हादसा हाईटेंशन लाइन टूटने से हुआ। इससे किसान अमर सिंह, वीरपाल, विद्यादेवी, राजू, विजय बहादुर, रामसेवक, सतीश चन्द्र और मल्लू की गेहूं की फसल जलकर राख हो गई। इन किसानों के बटाईदार मनीष और कुंवरपाल की मुसीबतें ज्यादा बढ़ गईं, क्योंकि दोनों को अपनी बेटियों रोशनी और रजनी की शादी करनी है। फसल जलने का समाचार मिलने पर दोनों युवतियां खेतों पर पहुंची, तब तक सबकुछ राख हो चुका था। गेहूं की फसल देखकर दोनों जोर-जोर से रोने लगीं। अन्य किसान और उनके परिजन भी मेहनत को राख में मिलते देख अपने आंसू रोक नहीं पाये।

कुंवरपाल ने बताया, "आषाढ़ में पुत्री की शादी होनी है। सब कुछ जल गया। बुझाने से पहले ही छह बीघा फसल राख हो गई।" मनीष बिलखते हुए बताते हैं"मुझे भी पुत्री की शादी करनी है, पर अब सब बर्बाद हो गया। पांच बीघा फसल बंटाई पर की थी।" छिबरामऊ से बिधूना मार्ग बना रहे आरपीएल कंपनी का टैंकर का पानी आग बुझाने के काम आया। वहीं, खेतों के पास खड़े आम के पेड़ भी जल गए। बताया गया है कि ये पेड़ सतीश, मल्लू और राजू के हैं। दूसरी ओर खेतों में आग लगने के करीब एक घंटे बाद दमकल गाड़ी पहुंची। देर से आने पर लोगों ने दमकल कर्मियों से नोंकझोंक भी की। आग बुझाने के बाद दमकल समेत टीम चली गई। लेकिन खेतों में आग फिर सुलग गई। इसको गांव के लड़कों ने बाल्टी से पानी डालकर बुझाया।

स्पार्किंग की वजह से लगी गेहूं के खेत में आग

बाराबंकी। बाराबंकी जिले के ग्राम पंचायत सेमरी के ग्राम ढेड़हा निवासी भगौती प्रसाद पुत्र स्व रामकुमार के खेत में रविवार दोपहर को विद्युत स्पार्किंग की वजह से आग लग गयी। आग लगने से दो बीघे खेत में पककर तैयार गेहूं की फसल जलकर राख हो गयी। वक्त पर ग्रामीणों द्वारा आग पर काबू पा लेने से बड़ा हादसा टल गया वरना बड़ा नुकसान हो सकता था। भगौती प्रासाद के अनुसार पिछले वर्ष भी इसी पोल से भी आग लगने की वजह से गेहूं की फसल जल गयी थी। इस बार भी उसी पोल से आग लगी। खेत आग लगने के कारण पीड़ित को काफी नुकसान उठाना पड़ रहा है। लगभग हर वर्ष इसी विद्युत पोल की वजह से उनके खेत मे तैयार फसल जलकर राख हो जाती है।

तार से निकली चिंगारी ने 250 बीघे गेहूं की खड़ी फसल कर दी बर्बाद

सुल्तानपुर। रविवार दोपहर करीब डेढ़ बजे दरछुट के पास हाईटेंशन से निकली चिंगारी खड़ी फसल पर गिर पड़ी। देखते ही देखते 250 बीघे गेहूं की फसल जलकर खाक हो गयी। आग लगने के करीब घंटे भर बाद पहुंची एक दमकल की गाड़ी आग बुझाने में नाकाम रही। इस घटना के बाद ग्रामीणों में रोष है।

किसानों की उम्मीदों पर फिरा पानी

कानपुर। घाटमपुर क्षेत्र के दौलतपुर गाँव के पास खड़ी फसल में अचानक आग लग गयी। जिसमें लगभग 40 बीघा गेहूं की खड़ी फसल जलकर राख हो गयी। मौके पर पहुंची दमकल की गाड़ियों ने आग पर काबू पाया। इस भयंकर आग से करीब 25 किसान प्रभावित हुए। इनमें से कुछ किसानों की लड़की व लड़कों की शादी दो महीने के अन्दर है। अचानक लगी आग में उनकी उम्मीदों पर पानी फेर दिया है।

Share it
Top