बीजों को सुरक्षित रखने के लिए अपनाएं ये उपाय

बीजों को सुरक्षित रखने के लिए अपनाएं ये उपायएक किसान औसत 70 प्रतिशत अनाज भोजन, बीज, एवं बिक्री के लिए भण्डारित करते हैं और भण्डारण के दौरान, अनाज की गुणवत्ता और मात्रा दोनों में कमी आती है।

लखनऊ। एक किसान औसत 70 प्रतिशत अनाज भोजन, बीज, एवं बिक्री के लिए भण्डारित करते हैं और भण्डारण के दौरान, अनाज की गुणवत्ता और मात्रा दोनों में कमी आती है। इस गुणवत्ता को फसल कटाई के बाद बीजों को कम नमी और कम तापमान पर रखने से काफी समय तक रोका जा सकता है।

वैज्ञानिक रूप से प्रसंस्कृत बीज यदि लाते ले जाते समय सही देखभाल एवं भण्डारण नहीं किया जाए तो इसका प्रभाव बीजों के अंकुरण क्षमता पर भी पड़ता है। इसके कारण लगभग 10 प्रतिशत अनाज बर्बाद हो जाता है। बीज भण्डारण की उचित विधियां अपना कर फसल को बर्बाद होने से बचाया जा सकता है। बीज को भण्डारित करने से पहले निम्नलिखित बातों का ध्यान रखना चाहिए।

खेती किसानी से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

  • खलिहान से बीज को अच्छी तरह से सफाई के बाद ही भंडारण करना चाहिए।
  • बीज में नमी की मात्रा 8 से 9 प्रतिशत होनी चाहिए।
  • भण्डार गृह में विण्डो ट्रेप व ग्रेन प्रोब का इस्तेमाल करके कीड़ों के आगमन का पता लगाकर उसका सही उपचार करना चाहिए।
  • 40-50 डिग्री सेंटीग्रेड तापमान पर काले पोलिथीन के ऊपर बीजों को 8-10 घंटे सुखाने पर भण्डारण कीटों का प्रकोप नष्ट हो जाता है।
  • उसके बाद बीजों को 700 गेज पोलिथीन में सील करके रख देना चाहिए इससे भण्डारण में कीटों का प्रकोप नहीं होता तथा अंकुरण क्षमता भी प्रभावित नहीं होती है।
  • किसी भी जगह बीज को भण्डारण करना है तो वह स्थान आस-पास के स्थान से ऊंचा होना चाहिए तथा उस स्थान पर पानी नहीं भरना चाहिए और वर्षा का पानी भी इकट्ठा नहीं होना चाहिए।
  • भण्डार गृह की सफाई समय-समय पर करते रहना चाहिए I
  • गेहूं, जौ, बाजरा के बीज की सुरक्षा के लिए कीटनाशक का प्रयोग करें।
  • दलहन बीजों को कीटनाशक से सुरक्षित रखने के लिए बोरियों पर डेल्टामेथ्रिन 2.5 डब्लू. पी. या 125 पी. पी. एम. से अच्छी तरह छिड़काव कर सुखा लेना चाहिए। फिर इनमें बीज भरकर रखने से बीज 6 महीने सुरक्षित रखा सकते हैं।
  • सब्जी फसलों जैसे मिर्च, प्याज आदि के बीजों को कीट रहित करने के लिए फ्यूमिगेशन पद्धति का प्रयोग करें।

इनपुट: कृषिसेवा.कॉम

Share it
Top