कम कीमतों से घटा मूंग की खेती का रकबा

कम कीमतों से घटा मूंग की खेती का रकबाबुंदेलखंड के बांदा में एक किसान के खेत में लगी मूंग। फोटो- विनय गुप्ता

नई दिल्ली। बाजार में मूंग की बेहतर कीमतें नहीं मिलने का असर इस बार बुआई पर पड़ा है। यूपी समेत कई राज्यों में चालू रबी की सीजन में मूंग के रकबे में कमी आई है। उत्पादक मंडियों में मूंग के भाव न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) से नीचे होने के कारण किसानों ने बुवाई कम की है। कृषि मंत्रालय के अनुसार चालू रबी मूंग की बुवाई 4.28 लाख हैक्टेयर में ही हो पाई है जबकि पिछले साल की समान अवधि में इसकी बुवाई 4.33 लाख हैक्टेयर में हो चुकी थी।

केंद्र सरकार ने चालू खरीफ विपणन सीजन 2016-17 के लिए मूंग का एमएसपी 5,225 रुपये प्रति क्विंटल (बोनस सहित) तय किया हुआ है जबकि उत्पादक मंडियों में इसके भाव 4,600 से 4,800 रुपये प्रति क्विंटल चल रहे हैं। सोमवार को मध्य प्रदेश की इंदौर मंडी में मूंग का भाव 4,700 रुपये, राजस्थान की मेड़ता सिटी मंडी में 4,600 रुपये, जयपुर मंडी में 4,600 रुपये और महाराष्ट्र की अकोला मंडी में 4,800 रुपये प्रति क्विंटल रहे।

मूंग के भाव में आई कमी को देखते हुए केंद्र सरकार सार्वजनिक कंपनियों के माध्यम से मूंग की एमएसपी पर खरीद भी कर रही है, लेकिन उत्पादन के मुकाबले खरीद नाममात्र की होने के कारण किसानों को अपनी उपज एमएसपी से 400 से 600 रुपये प्रति क्विंटल नीचे भाव में बेचनी पड़ रही है। चालू सीजन में नेफैड ने एमएसपी पर पांच जनवरी 2017 तक केवल 1,03,011 टन मूंग की ही खरीद की है। कृषि मंत्रालय के पहले आरंभिक अनुमान के अनुसार फसल सीजन 2016-17 खरीफ सीजन में मूंग की पैदावार बढ़कर 13.5 लाख टन होने का अनुमान है जबकि पिछले साल इसका उत्पादन 10.2 लाख टन का ही हुआ था।

मूंग की दैनिक आवक उत्पादक मंडियों में पहले की तुलना में कम हुई है, इसलिए माना जा रहा है कि मौजूदा कीमतों में 100 से 150 रुपये प्रति क्विंटल की गिरावट तो आ सकती है, लेकिन मौजूदा भाव में ज्यादा मंदा नहीं आयेगा मार्च में रबी मूंग की आवक चालू हो जायेगी, इसलिए कीमतों में तेजी की संभावना भी नहीं है। साभार. www.aslibharat.com

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top