कृषि मित्र बनाए नहीं और खर्च कर दिए करोड़ों रुपये

कृषि मित्र बनाए नहीं और खर्च कर दिए करोड़ों रुपयेप्रतीकात्मक तस्वीर

लखनऊ। किसानों को खेती-किसानी की जानकारी देने और जागरूक करने के लिए भारत सरकार ने एग्रीक्लचर टेक्नोलाजी मैनेजमेंट एजेंसी यानि 'आत्मा' नाम से योजना की शुरुआत की थी। भारत सरकार ने इस योजना में उत्तर प्रदेश को 257 करोड़ रुपए दिए थे लेकिन पिछली सरकार ने इस पर क्या काम किया इस बात का हिसाब अभी तक केन्द्र सरकार को नहीं दे पाई है।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

इस योजना में सरकार की अनेक कल्याणकारी योजनाओं की जानकारी गांव-गांव तक पहुंचे, इसके लिए केंद्र सरकार ने हर ग्राम पंचायत स्तर पर एक कृषिमित्र की नियुक्ति करने को कहा है था। लेकिन राज्य सरकार ने इस में कोई दिलचस्पी ही नहीं दिखाई। इसका खुलासा पिछले दिनों उस समय हुआ जब लखनऊ में उत्तर प्रदेश कृषि विभाग की समीक्षा बैठक करते हुए केन्द्रीय कृषि मंत्री राधामोहन सिंह ने बताया कि वित्तीय वर्ष 2015 में समेकित सहकारी विकास योजना के तहत प्रदेश को 401 करोड़ रुपए स्वीकृत करते हुए थे जिसमें से 257 करोड़ रुपए दिए प्रदेश को दिए भी गए थे, लेकिन इसका पैसा कहां खर्च किया गया और इस पैसे से क्या-क्या काम हुए उसकी जानकारी पिछली सरकार ने नहीं दिया है। इस मामलें में बड़े घोटोल की आशंका है। जिसपर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस मामले की जांच का आदेश दिया है।

उत्तर प्रदेश के कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने बताया, ''आत्मा योजना में पिछले वर्ष 189 करोड़ रुपये भारत सरकार से प्राप्त हुए थे, लेकिन वह धनराशि भी शत-प्रतिशत खर्च नहीं हो पाई है। इसलिए इस योजना का समुचित लाभ किसानों को नहीं मिल रहा है।'' उन्होंने कहा कि वर्तमान सरकार इस योजना की जांच कराकर किसानों को इसका अधिक से अधिक कैसे लाभ मिले इसके लिए काम करने जा रही है। उन्होंने कहा कि विभागीय बजट लैप्स होने पर संबंधित अधिकारी की जिम्मेदारी निर्धारित की गई। बजट लैप्स होने पर भारत सरकार की तरफ से भी अपत्ति की गई है।

सरकार बनने पर 52 हजार कृषि मित्रों की बहाली का बीजेपी ने किया था वादा

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव समय बीजेपी ने राज्य में अपनी सरकार बनने पर 52 कृषि मित्रों की बहाली का वादा किया था। भारतीय जनता पार्टी के किसान मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष सांसद वीरेन्द्र सिंह मस्त ने कहा था कि प्रदेश कृषि को बढ़ावा देने के लिए कृषि मित्र योजना को सही ढंग से लागू किया जाएगा लेकिन प्रदेश में भाजपा की सरकार बनने पर अभी तक इसपर वर्तमान प्रदेश सरकार की तरफ से कोई काम नहीं हुआ है।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top