करौंदे लगाने से खेत में नहीं घुस पाएंगे छुट्टा जानवर

करौंदे लगाने से खेत में नहीं घुस पाएंगे छुट्टा जानवरकरौंदे के पौधे लगाने के डेढ़ से दो वर्ष में फल आने शुरू हो जाते हैं।

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

लखनऊ। छुट्टा जानवरों से परेशान किसान अगर अपने खेत के चारों तरफ करौंदा का पौधा लगा लें तो उनकी फसल नुकसान होने से बच जाएगी। करौंदा की फसल में लागत बहुत कम आती है पर मुनाफा अच्छा होता है।

अम्बेडकर नगर के एक किसान ने 300 करौंदा के पौधे लगाकर न सिर्फ अपनी फसल को नीलगाय और छुट्टा जानवरों से बचाया है बल्कि इससे अच्छा मुनाफा भी कमा रहे हैं।

जिले से लगभग 65 किमी दूर पूरब दिशा में परेम गाँव है। इस गाँव में रहने वाले संतोष कुमार सिंह (43 वर्ष) बताते हैं, “छुट्टा जानवरों के फसल नुकसान से हम बहुत परेशान थे। वर्ष 2008 में करौंदा के झाड़ीनुमा कांटेदार 300 पौधे जुलाई महीने में चार बीघे खेत के चारों तरफ लगाए।”

संतोष सिंह का कहना है, “करौंदे का पौधा एक झाड़ की तरह होता है, इसकी ऊंचाई छह से सात फीट तक होती है,पत्तों के पास कांटे होते है जो मजबूत होते हैं इसकी वजह से जानवर खेत में नही घुस पाते हैं।

वो आगे बताते हैं, “पौधे लगाने के डेढ़ से दो वर्ष में फल आने शुरू हो जाते हैं, इन 300 पौधों से 60 हजार का करौंदा बिक जाता है और हमारी फसल को अब छुट्टा जानवर नुकसान नहीं कर पाते हैं, अगर किसान अपने फसल के चारों तरफ इसे लगाए तो छुट्टा जानवरों से बच सकते हैं।”

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top