सीतापुरः मूंगफली की खेती के क्षेत्रफल को दोबारा बढ़ाने का किया जा रहा प्रयास

सीतापुरः मूंगफली की खेती के क्षेत्रफल को दोबारा बढ़ाने का किया जा रहा प्रयासमूंगली की खेती के क्षेत्रफल को दोबारा बढ़ाने का किया जा रहा प्रयास

सीतापुर। एक समय ऐसा था जब सीतापुर जिले में बड़े पैमाने पर मूंगफली की खेती होती थी। लेकिन समय के साथ-साथ मूंगफली यहां से खत्म होती गई। लेकिन एक बार फिल से सीतापुर में मूंगफली की खेती के क्षेत्रफल को बढ़ने के लिए प्रयास किये जा रहे हैं। और ये प्रयास सीतापुर के कटिया में स्थित कृषि विज्ञान केंद्र के वैज्ञानिकों द्वारा किये जा रहे हैं।

मूंगफली अनुसंधान निदेशालय, जूनागढ़, गुजरात के निदेशक डॉ. टी.राधाकृष्णन, प्रधान वैज्ञानिक डॉ रामदत्ता ने मूंगफली की खेती को बढ़ाने के प्रयासों का निरीक्षण किया और किसानों से जायद में मूंगफली उत्पादन के अनुभवों को साझा किया।

सीतापुर के कटिया कृषि विज्ञान केंद्र के वैज्ञानिक दया शंकर श्रीवास्तव ने अपनी फेसबुक वॉल पर लिखा कि किसानों ने मूंगफली उत्पादन को खूब सराहा है और किसानों ने मूंगफली की खेती करने में रुचि दिखाई है। गन्ने के साथ मूंगफली एक नए आयाम के रूप में उभरकर सामने आया है जिससे सभी किसानों के अंदर काफी उत्साह है। जायद फसल में मूंगफली के फलियों की संख्या अभी तक 40 प्रति पौध पाई गई है जिससे किसान काफी खुश हैं।

Share it
Top