हाईटेक किसान : देश में 70 हज़ार किसान ऐप की मदद से उठा रहे सीधा लाभ

हाईटेक किसान : देश में 70 हज़ार किसान ऐप की मदद से उठा रहे सीधा लाभकिसानों में बढ़ रहा है मोबाइल और सोशल मीडिया का इस्तेमाल। फोटो- गांव कनेक्शऩ

लखनऊ। कृषि विभाग महाराष्ट्र ने अपने राज्य के किसानों के लिए मोबाइल के माध्यम से एक नई सुविधा शुरू की है। विभाग अपनी मासिक पत्रिका ‘शेतकरी मासिक’ का ऐप वर्ज़न किसानों के बीच लाया है। अधिकारियों के अनुसार इसे लगभग 70 हज़ार से ज़्यादा किसानों ने पसंद किया है।

खेती किसानी से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

इस ऐप में किसानों को विभाग द्वारा चलाई जा रही योजनाओं की जानकारियां सीधे फोन पर मिल रही हैं। इससे किसानों को अपने खेती किसानी को आधुनिक बनाने में लाभ उठा रहे हैं। जानकारों की माने तो ऐप में कृषि विभाग के विशेषज्ञों के लाभदायक कृषि सुझाव व अन्य ज़रूरी बातें भी शामिल हैं।

अन्य राज्यों के किसान भी उठा रहे लाभ

किसानों के बीच यह तेज़ी से लोकप्रिय हो चुका है। शेतकरी मासिक ऐप के नाम से जाना जाने वाला कृषि विभाग के इस एप को अभी तक देशभर के एक लाख से ज़्यादा लोगों ने डाउनलोड किया है। खास बात ये है कि इस ऐप का प्रयोग महाराष्ट्र के अलावा पंजाब, उत्तरप्रदेश व बिहार जैसे राज्यों में भी सफलतापूर्वक हो रहा है।

ये भी पढ़ें- जानिए किस तरह किसानों के लिए मददगार साबित हो रहें खेती संबंधित मोबाइल ऐप

कृषि विभाग महाराष्ट्र के उपनिदेशक जेपी शिंदे बताते हैं,'' यह ऐप हमारे विभाग की वर्ष 1965 से छप रही पत्रिका ‘शेतकरी मासिक’ का मोबाइल वर्ज़न है। इस ऐप में खेती की उपयोगी जानकारियों के अलावा विभाग के महत्वपूर्ण मोबाइल नंबर व योजनाओं के फार्म उपलब्ध कराए गए हैं, जिसकी ज़रूरत किसानों को पड़ती रहती है।''

पशुपालन व मछली पालन की जानकारियां भी मिल रही

आपको बता दें कि यह ऐप एंड्रॉयड 2.3 जिंजरब्रेड व इसके अपडेट वर्ज़न पर काम करता है। इस ऐप में फसल चुनाव, पशुपालन, मुर्गी पालन, मछली, पालन, वानिकी, कृषि उद्योग, जैव प्रौद्योगिकी जैसी उपयोगी जानकारियां दी गई हैं। यह एप हिंदी, मराठी और अंग्रेज़ी भाषाओं में उपलब्ध हैं। इसे कृषि विभाग और पुणे की रियल आईटी सर्विस प्राईवेट लिमिटेड नाम की संस्था ने बनाया है।

संबंधित ख़बरें- सोशल मीडिया के सही इस्तेमाल से किसान बदल सकते हैं अपनी और देश की तस्वीर

जेपी शिंदे आगे बताते हैं, '' इस ऐप में किसानों को सही और प्रयोगात्मक जानकारियां मिल सकें, इसके लिए ऐप का संचालन सीधे कृषि विभाग से ही किया जाता है। ऐप में सिर्फ किसानों को लाभकारी कृषि सुझाव ही नहीं दिए जाते हैं, बल्कि उनके खुद के फसल परामर्श भी उनके नाम के साथ लगाए जाते हैं।"

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top