‘महिलाएं ला सकती हैं देश में दूसरी हरित क्रांति’

‘महिलाएं ला सकती हैं देश में दूसरी हरित क्रांति’फोटो: गाँव कनेक्शन

नई दिल्ली (भाषा)। केंद्रीय कृषि मंत्री राधामोहन सिंह ने सोमवार को नई दिल्ली में राष्ट्रीय महिला किसान दिवस समारोह के मौके पर कहा कि यदि महिलाओं को अवसर और उपयुक्त सुविधाएं दी जाएं तो वे देश में दूसरी हरित क्रांति लाने में सक्षम है। उन्होंने कहा कि सरकार महिलाओं को जैविक खेती, स्वरोजगार योजना और प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना जैसी विभिन्न नीतियों के जरिये अवसर मुहैया करा रही है।

कृषि संबंधी रोजगार में महिलाओं की 48 प्रतिशत हिस्सेदारी

radha mohan singh

राधा मोहन सिंह ने कहा, “महिलाएं कृषि क्षेत्र में श्रमिकों की निगरानी और फसल तैयार होने के बाद की गतिविधियों में भाग लेकर कृषि क्षेत्र में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकती हैं।“ खाद्य एवं कृषि संगठन के अनुसार, देश के कृषि क्षेत्र में महिलाओं की करीब 32 प्रतिशत हिस्सेदारी है। महिलाएं कृषि संबंधी रोजगार में 48 प्रतिशत हिस्सेदारी रखती हैं और 7.5 करोड़ महिलाएं दुग्ध उत्पादन एवं पशुपालन में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही हैं।

राष्ट्रीय किसान नीति के तहत नीतिगत प्रावधान

उन्होंने कहा, “कृषि एवं इससे जुड़ी गतिविधियों में महिलाओं की भागीदारी अधिक करने और जमीन, कर्ज और अन्य सुविधाओं पर उनका नियंत्रण बढ़ाने के लिए मंत्रालय के पास राष्ट्रीय किसान नीति के तहत घरेलू एवं कृषि भूमि के लिए संयुक्त पट्टा देने जैसे नीतिगत प्रावधान हैं।“

2.56 लाख महिलाओं को दिया गया प्रशिक्षण

उन्होंने कहा, “इसका उद्देश्य यह आश्वस्त करना है कि कृषि उत्पादन में महिलाओं की भागीदारी प्रभावी हो। 2016-17 में महिलाओं से जुड़ी 21 तकनीकों का मूल्यांकन किया गया और 2.56 लाख महिलाओं को पशुपालन, मुर्गीपालन जैसी कृषि से जुड़ी गतिविधियों के लिए प्रशिक्षित किया गया।“

यह भी पढ़ें: महिला किसान दिवस: महिंद्रा राइज ने शुरू की महिला किसानों के लिए ‘प्रेरणा’

यह भी पढ़ें: महिला किसान दिवस विशेष: कीजिए सलाम, पूरी दुनिया में खेती-किसानी में पुरुषों से आगे हैं महिलाएं

Share it
Top