खसरा जैसी बीमारी के प्रकोप से दर्जनों बच्चे बीमार

खसरा जैसी बीमारी के प्रकोप से दर्जनों बच्चे बीमारगाँव कनेक्शन

फतेहपुर बाराबंकी। खसरे का प्रकोप एक गाँव में फ़ैलने से दर्जनभर बच्चे और किशोर इसकी चपेट में हैं। करीब एक सप्ताह से बीमार इन बच्चों के परिजन इनके इलाज के लिए निकटवर्ती झोलाछाप डॉक्टर से इलाज कराया क्योकि सीएचसी के डॉक्टर बात सुनने को तैयार नहीं है।

जिला मुख्यालय से 27 किमी दूर उत्तर दिशा में तहसील फतेहपुर के कई क्षेत्र के कई गाँवों में खसरा का फैल गया है जिससे दर्जनों बच्चे इसकी चपेट में आ गये हैं। वहीं तीन किलोमीटर दूर दक्षिण दिशा में देवा रोड पर बसे रैकवापुरवा जिसकी आबादी लगभग 450 के आस-पास है इस गाँव के बच्चे लगभग एक हफ्ते से बीमार है जिनमें विनीत, अंकुश, चाँदनी, अरुण, शुभम, शिवा, मनीष, आकाश, रिंकी, पिंकी, पूजा, अमन, दीपक, खसरा की चपेट में है। 

इसी गाँव के निवासी रामलखन (55 वर्ष) बताते है, "हमारे गाँव में 10 अक्टूबर से ही चेचक जैसी बीमारी के लक्षण बच्चों में दिखने लगे थे। एएनएम को गाँव में चेचक फैलने की जानकारी दी गई पर न तो सरकारी डॉक्टरों की टीम आई और न ही कोई उपचार किया गया। जिससे मरीजों की तादात बढ़ती गई।"

बीमारी के कारण आस-पास के गाँवों में इस तरह की बीमारी फैलने से लोगों में दहशत का माहौल है। वहीं सरकारी सुविधाएं न मिल पाने से लोग झोलाछाप डॉक्टरों के पास जाने को मजबूर हैं। गाँवों में गन्दगी फैली हुई है जिससे बीमारी और फैल रही है अभी तक कोई सफाई कर्मचारी नहीं पहुँचा न ही कोई टीकाकरण किया जा रहा है। 

इसी तहसील के दूसरे गाँव देवकलिया गाँव में पिछले 15 दिनों से चेचक जैसी बीमारी से दर्जनों बच्चे चपेट में आ चुके है, यह बीमारी तीन से चार गाँवों में फैल चुकी है। पीड़ित दीपक के पिता बताते है, "जब सीएचसी के पास गए तो बुखार की दवा दे दी। दो दिन बाद शरीर पर दाने निकल आए।" बाराबंकी मुख्य चिकित्सा अधिकारी रविन्द्र कुमार बताते है, "इस बीमारी के बारे में हमको कोई जानकारी नहीं है कुछ समय पहले गाँव में बीमारी फैली थी जिसके इलाज के लिए डॉक्टरों की टीम बनाई गई जिसने गाँव में दवाइयां और टीका लगया था। दुबारा यह बीमारी हो गई इसकी जानकारी नहीं है, चेचक पिछले 15 साल से भारत में नहीं हुआ जो बीमारी है वो खसरा है जिसका टीका लगातार लगाया जा रहा है जि़ले में 40 प्रतिशत खसरे का टीका लगवाया जा चुका है।"

रिपोर्टर-स्वाती शुक्ला/वीरेंद्र सिंह

Tags:    India 
Share it
Top