खुले में शौच मुक्त गाँव बना मुजासा

खुले में शौच मुक्त गाँव बना मुजासागाँव कनेक्शन

मलिहाबाद/लखनऊ। खुले में शौच जाने से मुक्त हुए ग्राम मुजासा का निरीक्षण करते हुए मुख्य विकास अधिकारी प्रशान्त कुमार ने गाँव में चौपाल लगाकर जन समस्याएं सुनीं तथा स्वच्छता के प्रति ग्रामीणों को जागरूक किया।

वहीं जिलाधिकारी ने स्वच्छता कार्य मे सहयोग देकर गाँव को स्वच्छ खुले में शौच जाने से मुक्त हुए ग्राम मुजासा का निरीक्षण करते हुए मुख्य विकास अधिकारी प्रशान्त कुमार ने गाँव में चौपाल लगाकर जन समस्याएं सुनीं तथा स्वच्छता के प्रति ग्रामीणों को जागरूक किया। वहीं जिलाधिकारी ने स्वच्छता कार्य मे सहयोग देकर गाँव को स्वच्छ बनाने वालों की सराहना करते हुए पांच लाख का पुरस्कार दिया।

मंगलवार को सुबह आठ बजे इस गाँव में पहुंचे सीडीओ ने पैदल भ्रमण कर विकास की हकीकत परखी। निरीक्षण में कई स्थानों पर बनीं सड़कें टूटी मिलीं। एक परिवार में बनाये गये शौचालय के अन्दर लकड़ियां व बर्तन भरे थे। तीन स्थानों पर हैण्डपम्प खराब पड़े मिले। इस पर उन्होंने ग्राम पंचायत के सचिव शिवशंकर सिंह को फटकार लगाते हुए तीन दिन में इन्हें ठीक कराने के निर्देश दिये। 

गाँव के निवासी फारूक सहित कई लोगों ने शिकायत किया कि गत दो माह से कोटेदार राशन का वितरण नहीं कर रहा है। इस पर नाराज हुए सीडीओ ने कोटेदार सुएैब अहमद को फटकार लगाते हुए बृहस्पतिवार को हर हालत मे राशन बांटने के निर्देश दिए। 

उसे चेतावनी दी कि अगर निर्देश का पालन न हुआ तो उसकी दुकान तीसरे दिन निलम्बित कर दी जाएगी। गाँव का निरीक्षण कर प्राथमिक विद्यालय प्रांगण मे पंचायत लगाकर उन्होंने ग्रामीणों की समस्याएं सुन उनका निराकरण कराने का आश्वासन दिया। गांव के तालाबों के किनारे ग्रामीणों द्वारा डाले जा रहे कूडे को हटवा कर तालाबों की खुदाई कराने का आदेश खण्ड विकास अधिकारी हवलदार सिंह को दिया। 

मुख्य विकास अधिकारी ने इस गाँव को स्वच्छ बनाने मेँ योगदान देने वाली संस्था वात्सल्य, ग्राम प्रधान रेहाना बानो और सचिव शिवशंकर सिंह को पुरस्कृत किया। मौके पर मौजूद सहायक विकास अधिकारी आईएसबी को निर्देशित किया कि वह गाँव मे बैठकें कर महिलाओं के समूहों का गठन कर उन्हें स्वरोजगार से जोड़ें। 

दोपहर दो बजे पहुंचे जिलाधिकारी राजशेखर ने चन्द घण्टे पूर्व सीडीओ के निरीक्षण मे मिली खामियां सुधारने व खुले मे शौच जाने से मुक्त हुए इस ग्राम मे कार्य करने वाले पंचायत विभाग व वात्सल्य संस्था के कार्यों की सराहना की। जिलाधिकारी ने स्वच्छ हुए इस ग्राम को पुरस्कार के रूप में 5 लाख रुपए देने की घोषणा की।

रिपोर्टर - सुरेंद्र कुमार

Tags:    India 
Share it
Top