कई की मिठाई बंद करा दी, इसलिए समस्याओं का सामना कर रहा हूं: मोदी

कई की मिठाई बंद करा दी, इसलिए समस्याओं का सामना कर रहा हूं: मोदीgaonconnection

दोहा (भाषा)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने विरोधियों पर निशाना साधते हुए आज कहा कि उन्हें केवल इसलिए समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है क्योंकि उन्होंने भ्रष्टाचार पर लगाम कसी है और कई लोगों को ‘मिठाई' से वंचित कर दिया है। उन्होंने देश को भ्रष्टाचार के दीमक से छुटकारा दिलाने का संकल्प लिया।

कतर की अपनी दो दिनी यात्रा को समाप्त करने से पहले यहां भारतवंशी समुदाय को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि व्यवस्था की सफाई के उनकी सरकार के प्रयासों से सरकारी योजनाओं में लीकेज तथा चोरी रोककर सालाना 36,000 करोड़ रुपए बचाए गये हैं।

उन्होंने कहा, ‘‘हमने केवल सतह (भ्रष्टाचार पर) साफ की है और गहराई से सफाई अभी बाकी है।'' मोदी ने कहा कि 1.62 करोड़ फर्जी राशनकार्ड का पता लगाया गया और सब्सिडी वाले चावल, गेहूं, केरोसिन और एलपीजी के करोड़ों रुपए बचाए गये हैं। उन्होंने कहा कि लीकेज समाप्त करके और वित्तीय अनुशासन एवं शासन में कार्यक्षमता सुनिश्चित करके भारत तेजी से बढ़ रहा है और लगातार दो साल से सूखे का सामना करने और एक वैश्विक आर्थिक मंदी के बावजूद उसने 7.9 प्रतिशत की विकास दर हासिल की है।

उन्होंने अपने 25 मिनट के भाषण में कहा, ‘‘भ्रष्टाचार ने हमारे देश को खोखला कर दिया है, जो दीमक की तरह इसे खा रहा है।'' प्रधानमंत्री ने अपने विरोधियों को आड़े हाथ लेते हुए भ्रष्टाचार पर सरकार की कार्रवाई की आलोचना की तुलना किसी बच्चे को मिठाई नहीं देने पर उसके अपनी मां से नाराज होने से की।

पिछली कांग्रेसी सरकारों पर परोक्ष हमले में प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘आज पूरी दुनिया में भारत की छवि सुधरी है और देश को सम्मान के साथ देखा जा रहा है। सभी भारत की ओर आकर्षित हो रहे हैं। जब दूसरे देशों के लोग भारतीयों से मिलते हैं तो आप अंतर देखते होंगे।'' मोदी ने कहा, ‘‘आप बहुत दूर मंगोलिया भी जाएंगे तो वहां भी भारतीय महसूस करता है कि समय बदल गया है।'' कतर में बसे भारतीयों के यहां महत्वपूर्ण योगदान के साथ भारत-कतर के संबंधों में विकास को रेखांकित करते हुए उन्होंने कहा, ‘‘जब किसी देश के शासक भारतीयों की तारीफ करते हैं तो आप कल्पना कर सकते हैं कि मेरा सीना गर्व से कैसे फूलता होगा।''

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top