कन्नौज के सरकारी स्कूलों ने प्राइवेट को किया फेल

कन्नौज के सरकारी स्कूलों ने प्राइवेट को किया फेलgaoconnection

कन्नौज। सरकारी स्कूलों की बुराईयां तो खूब सुनी होंगी पर कभी ऐसे जि़ले के बारे में सुना है जहां सरकारी स्कूलों में टीचर टाइम पर आते हों, बच्चों का भारी संख्या में दाखिला हो रहा हो और सरकारी पढ़ाई इतनी सुधर जाए कि निजी स्कूलों का धंधा ही खत्म हो जाए। उत्तर प्रदेश का कन्नौज जिला इस समय सरकारी शिक्षा में ऐसे ही बड़े बदलावों का गवाह बन रहा है। 

करीब डेढ़ साल पहले तक कन्नौज के सरकारी स्कूलों में 30 फीसदी शिक्षक स्कूल नहीं जाते थे, 60 फीसदी बच्चे पढ़ाई नहीं करते थे। लेकिन अब यहां टीचर समय पर आते हैं कारण यह है कि उन्हें मोबाइल के ज़रिए डीएम को हाजिरी जो भेजनी पड़ती है। इसकी क्रॉस चेकिंग के लिए एक टीम भी गठित की गई है।

इन सारे बदलावों का श्रेय जाता है कन्नौज के डीएम अनुज कुमार झा को, जिन्होंने उदाहरण पेश किया है कि यदि कोई कलेक्टर ठान ले तो वो सरकारी शिक्षा को बेहतर बना सकता है। अपने प्रयास के बारे में डीएम बताते हैं, “बेसिक शिक्षा की खराब स्थिति को पटरी पर लाने के लिए सर्व शिक्षा अभियान की अपेक्षाओं का अध्ययन किया गया। इस काम के लिए 80 जिलास्तरीय विभागों के अफसरों को लगाया गया।” 

उन्होंने कहा, “रिपोर्ट में सामने आया कि कई शिक्षक प्रतिदिन व समय से स्कूल नहीं पहुंचते। जिसकी वजह से बच्चे भी नहीं आते। शिक्षक संघ को शामिल कर बेसिक शिक्षा में सुधार शुरू किये गए।” डीएम आगे बताते हुए कहते हैं, “हर शनिवार को होने वाली मीटिंग में जहां कमियां होती हैं वहां के शिक्षकों को बुलाया जाता है। सुधार न होने पर चेतावनी और दंड भी दिया जाता है।” 

डीएम के प्रयासों का असर सबसे ज्यादा हसेरन ब्लॉक में दिखा। यहां के प्राथमिक स्कूल के शिक्षक की मेहनत की वजह से आस-पास के बच्चे निजी स्कूलों की बजाए सरकारी स्कूल में आने लगे। इससे क्षेत्र का एक निजी स्कूल बंद हो गया। ब्लॉक के जोगीडेरा छिबरामऊ के बच्चे स्कूल जाने लगे। जोड़-घटाना के साथ-साथ 20 तक पहाड़ा सुना लेते हैं। कुंवरपुर बनवारी स्थित सरकारी स्कूल में कक्षा एक और दो के बच्चों की संख्या 125 के करीब पहुंची। 

कन्नौज डीएम के इन प्रयासों की तारीफ अंतरराष्ट्रीय एनजीओ के साथ ही सूबे के मुख्य सचिव भी कर चुके हैं। मुख्य सचिव आलोक रंजन ने इसे पूरे सूबे में लागू करने की बात भी कही है। फिलहाल इन उपायों को कानपुर मंडलायुक्त मोहम्मद इफ्तिखारूद्दीन ने अपने मंडल के सभी जिलों में लागू करने का फरमान जारी कर दिया है। फरमान के बाद औरैया और कानपुर देहात जिले में कन्नौज डीएम की मुहिम को लागू किया जा रहा है।

पिछले सप्ताह मंडल के फर्रूखाबाद, औरैया, इटावा, कानपुर देहात, कानपुर नगर जिलों के बीएसए, बीईओ कलक्ट्रेट सभागार में हुई एक महत्वपूर्ण कार्यशाला में शामिल हुए। जहां उन्होंने कन्नौज डीएम की इस मुहिम को अपने-अपने जिलों में लागू करने के लिए ज़रूरी पहलुओं को समझा। 

रिपोर्टर - अजय मिश्र

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top