कोटेदारों ने राशन चोरी का खोजा नया तरीका

कोटेदारों ने राशन चोरी का खोजा नया तरीकाgaonconnection, kotedar, rashan

लखनऊ। पिछले तीन महीनों से राशनकार्डों का नवीनीकरण चल रहा है, पात्रों को राशन, प्रधान और कोटेदार द्वारा दी जारी रहीं पर्चियों के आधार पर मिल रहा है। लेकिन कोटेदार पर्चियों के नाम पर ग्रमाीणों के साथ घपला कर रहे हैं।

जिन पात्रों के कार्ड रिन्यू होकर वापस नहीं आए हैं, यूपी खाद्य सुरक्षा और रसद विभाग द्वारा उनके नामों की सूची का प्रिंट आउट ग्रामवार प्रधानों और कोटेदारों को भेजा गया है। इसी प्रिंट आउट को पर्ची कहते हैं। इस व्यवस्था के बाद कोटेदार कह रहे हैं कि पर्ची पर परिवार के एक लोग के लिए राशन आया है। बाकी के नामों को उजागर किए बिना उनका राशन ब्लैक में बेच रहा है। मलिहाबाद के पीरनगर के निवासी विनय कुमार (45 वर्ष) बताते हैं, “हमारे घर में पहले तीन कार्ड बने हुये थे लेकिन जब से नये कार्ड बने हैं तब से एक ही पर्ची पर राशन मिल पा रहा है।

मलिहाबाद के पीरनगर के निवासी विनय कुमार (45 वर्ष) बताते हैं, “हमारे घर में पहले तीन कार्ड बने हुये थे लेकिन जब से नये कार्ड बने हैं तब से एक ही पर्ची पर राशन मिल पा रहा है। जब कोटेदार से पूछते हैं हमारे कार्ड कब तक मिलेंगे तो वो बोलता है पता नहीं। जिन लोगों की पर्ची आयी है उन्ही को राशन मिलेगा। जब इसकी शिकायत प्रधान से की तब जाकर कोटेदान ने मेरी राशन की पर्ची दी।

लखनऊ के अन्तर्गत आने वाले बख्शी का तालाब, माल, काकोरी और मलिहाबाद ब्लॉकों के सैकड़ों गाँवों में कोटेदार द्वारा पर्ची पर ही राशन का वितरण किया जा रहा है। राशनकार्ड के बारे में अपने अधिकारों की सीमित जानकारी के चलते गाँव वाले भी शिकायत सही जगह नहीं कर पाते।

इस बारे में लखनऊ के अतिरिक्त जिलाधिकारी (आपूर्ती) एके सिंह ने कहा, “यदि कोटेदार राशनकार्ड धारकों की पर्ची की सूचना उनको नहीं देता है और राशन में गड़बडी करता हुआ पाया जाता है तो उस पर सख्त कार्यवाही की जायेगी। जिन व्यक्तियों को अपने राशनकार्ड बनने सम्बन्धित कोई भी जानकारी चाहिये वह बीएसओ से प्राप्त कर सकते हैं”।

धांधली के इल्जामों पर माल तहसील के एक कोटेदार जितेन्द्र ने सफाई देते हुए कहा, “अपूर्ती विभाग से वर्तमान समय मे हमें पर्ची के अनुसार राशन दिया जा रहा है। पुराने राशनकार्डों में कुछ लोगों के परिवार के पास कई कार्ड थे लेकिन कार्डों के नवीनीकरण के बाद से इन लोगों की एक दो राशन की पर्चियां घट गई हैं। इसकी वजह से ये लोग कोटेदार के उपर राशन हड़पने का आरोप लगा रहे हैं”।

वर्तमान समय प्रदेश में कार्डधारकों की संख्या

सरकारी आंकड़ों के अनुसार प्रदेश में बीपीएल के 64,78,456 कार्डों पर प्रदेश के 2,49,91,390 लोग लाभान्वित हो रहे हैं। अंतोदय के 40,81,521 कार्डों पर 1,62,24,079 लोग जबकि एपीएल के 2,75,45,259  कार्डों पर प्रदेश के 10,19,95,537 लोगों को राशन प्राप्त हो रहा है।

रिपोर्टर - अविनाश सिंह

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top