दलहन कीमतों में पिछले सप्ताह भी दिखी मजबूती 

दलहन कीमतों में पिछले सप्ताह भी दिखी मजबूती फोटो: अभिषेक वर्मा

नई दिल्ली। लगातार दूसरे सप्ताह राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के थोक दलहन बाजार में मजबूती का रुख बना रहा।

फुटकर कारोबारियों और दाल मिलों की मांग में तेजी के बाद स्टॉकिस्टों का उठाव बढ़ने के कारण काबुली चना और राजमा चित्रा की अगुवाई में चुनिंदा दलहनों की कीमतों में 200 रुपये प्रति कुंतल तक की तेजी आई। उत्पादक क्षेत्रों से आपूर्ति में गिरावट के कारण कम स्टॉक होने से भी तेजी के रुख को समर्थन प्राप्त हुआ।

बाजार सूत्रों ने कहा कि उत्पादक क्षेत्रों से सीमित आवक के मुकाबले फुटकर विक्रेताओं और दाल मिलों की बढ़ती मांग के बीच स्टॉकिस्टों की लिवाली बढ़ने से मुख्यत: काबुली चना, राजमा चित्रा और अन्य दलहनों की कीमतों में तेजी आई।

राष्ट्रीय राजधानी में काबुली चना छोटी किस्म और राजमा चित्रा की कीमतें 200-200 रुपये की तेजी के साथ क्रमश: 4,900 - 5,900 रुपये और 6,200-8,200 रुपये प्रति कुंतल पर बंद हुई।

मूंग और इसके दाल छिलका स्थानीय की कीमतें 100-100 रुपये की तेजी के साथ क्रमश: 4,800-5,500 रुपये और 5,600-5,800 रुपये प्रति कुंतल पर बंद हुई। इसके दाल धोया स्थानीय और बेहतरीन गुणवत्ता की कीमतें भी समान अंतर की तेजी के साथ क्रमश: 6,200-6,700 रुपये और 6,700-6,900 रुपये प्रति कुंतल पर बंद हुई।

मसूर छोटी और बोल्ड की कीमतें भी 100-100 रुपये की तेजी के साथ क्रमश: 3,550-3,700 रुपये और 3,650-3,800 रुपये प्रति कुंतल पर बंद हुई। इसके दाल स्थानीय और बेहतरीन गुणवत्ता की कीमतें भी 200-200 रुपये की तेजी के साथ क्रमश: 3,900-4,300 रुपये और 4,000-4,400 रुपये प्रति कुंतल पर बंद हुई।

मोठ की कीमत 100 रुपये की तेजी के साथ 3,600-4,000 रुपये प्रति कुंतल पर बंद हुई, जबकि दाल अरहर और अरहर दाल दड़ा किस्म की कीमतें क्रमश: 50 रुपये और 100 रुपये की तेजी के साथ क्रमश: 4,250 रुपये और 6,000-7,900 रुपये प्रति कुंतल पर बंद हुई।

तेजी के आम रुख के अनुरूप मटर सफेद और हरी की कीमतें 200-200 रुपये की तेजी के साथ क्रमश: 3,025-3,050 रुपये और 3,125-3,225 रुपये प्रति कुंतल पर बंद हुई।

(एजेंसी)

ये भी पढ़ें- मांग बढ़ने से बीते सप्ताह चावल बासमती, गेहूं कीमतों में तेजी जारी

ये भी पढ़ें- मानसून : ये हैं मौसम के पूर्वानुमान के देसी अलार्म, घटनाएं जो बताती हैं बारिश कैसी होगी ?

ये भी पढ़ें- जैविक खेती से लहलहाएगी फसल, पर्यावरण रहेगा सुरक्षित

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top