कश्मीर के लिए जेहादियों का इस्तेमाल पाकिस्तान को पड़ा भारी: हक्कानी

कश्मीर के लिए जेहादियों का इस्तेमाल पाकिस्तान को पड़ा भारी: हक्कानीgaoconnection

वॉशिंगटन (भाषा)। लाहौर में हुए भीषण आतंकी हमले के बाद पाकिस्तान के पूर्व राजनयिक हुसैन हक्कानी ने कहा कि जम्मू कश्मीर की आजादी के मकसद से जिहादी समूहों के साथ पाकिस्तान की साठगांठ उसके ऊपर उल्टी पड़ गई है।

अमेरिका में पाकिस्तान के पूर्व दूत रहे हक्कानी ने एक साक्षात्कार में कहा कि पाकिस्तान की दशकों पुरानी नीति के उल्टा पड़ जाने के बावजूद देश के अधिकारी आतंकवादी समूहों के खिलाफ सम्पूर्ण युद्ध की घोषणा के लिए तैयार नहीं हैं। हक्कानी ने कहा, ''जिहादी समूहों के साथ पाकिस्तान की भागीदारी शुरू में एक रणनीति के तहत थी और माना जा रहा था कि इससे अफगानिस्तान में प्रभाव कायम करने और जम्मू कश्मीर को भारत से आजाद कराने में उन्हें फायदा होगा।''

हक्कानी ने कहा, ''अपनी नीति के उल्टा पड़ जाने के बावजूद पाकिस्तान कुछ गिने चुने जिहादी समूहों के खिलाफ ही कार्रवाई कर रहा है। यही वजह है कि वो ध्रुवीकरण की विभिन्न नीतियों का फायदा उठाकर शियाओं, अहमदियों या ईसाइयों को निशाना बना रहा है और अधिक से अधिक लड़ाकों की भर्ती करके समाज में अपना प्रभुत्व बना रहा है।''

उन्होंने कहा, ''वास्तविक समस्या तो देश के उस रवैये पर टिकी है, जिसमें पंजाब के अलावा देश के अन्य हिस्सों में आतंकवादियों को तलाशा जा रहा है और सिर्फ पंजाब में दलों की सुरक्षा की कोशिश की जा रही है और अब यही उन्हें काटने को दौड़ रही है।''

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top