कश्मीर में फिर तनाव, गार्ड की मौत

कश्मीर में फिर तनाव, गार्ड की मौतकश्मीर में फिर तनाव, गार्ड की मौत

श्रीनगर। श्रीनगर में बुधवार को ATM बूथ पर एक सुरक्षाकर्मी की लाश मिलने के बाद कश्मीर घाटी में तनाव और बढ़ गया। लोग कर्फ्यू तोड़कर विरोध प्रदर्शन करने सड़कों पर उतर आए। बीते दो दिनों में कश्मीर में दो और नागरिकों की मौत हो गई, जिसके साथ नौ जुलाई से शुरू हुए संघर्ष में मरने वालों तादात बढ़कर 53 हो गई। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट से रियाज अहमद शाह की मौत का कारण पता चल गया है। चिकित्सकों ने बताया कि उनके पेट में 300 छर्रे पाए गए। एक शीर्ष सरकारी सूत्र ने यहां कहा, ''जो भी इस हत्या के लिए जिम्मेदार हैं, उनकी पहचान की जाएगी और उन पर कार्रवाई होगी।'' रियाज़ को बुधवार सुबह रहस्यमय परिस्थितियों में इलाके के करन नगर में सरकारी मेडिकल कॉलेज के पास मृत पाया गया। पुलिस ने इससे पहले कहा था कि किसी धारदार हथियार से उनकी हत्या की गई है।

लेकिन, पीड़ित के परिवार और स्थानीय नागरिकों का दावा है कि सुरक्षा बलों ने उनकी हत्या की है। शाह की मौत की खबर फैलते ही सैकड़ों की संख्या में नागरिक श्रीनगर के पुराने इलाके में सड़कों पर उतर आए और कर्फ्यू के बावजूद शाह की अंतिम यात्रा में हिस्सा लिया। श्रीनगर के ईदगाह इलाके में कब्रिस्तान में शाह को दफनाया गया। इससे पहले श्रीनगर-जम्मू राष्ट्रीय राजमार्ग पर मंगलवार शाम को एक प्रदर्शनकारी को मृत पाया गया. उसे गोली लगी थी। प्रदर्शनकारियों ने बुधवार को श्रीनगर इलाके में नारेबाजी की. उन्होंने आरोप लगाया कि गार्ड की सुरक्षा बलों की तरफ से गोली मारकर हत्या की गई है।

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया, ''पुलवामा जिले के लेथपोरा में रविवार को भीड़ ने अतिरिक्त जिला विकास आयुक्त (रामबन) के वाहन पर हमला कर दिया था. इसके बाद उनके सुरक्षाकर्मी ने गोली चला दी. इस घटना में फारूक कुच्चे की मौत हो गई, जबकि एक अन्य गंभीर रूप से घायल हो गया।'' प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार, लेथपोरा में बुधवार को कुच्चे की अंतिम यात्रा में सैकड़ों की संख्या में लोगों ने हिस्सा लिया। दक्षिणी कश्मीर के पर्यटन स्थल पहलगाम में विरोध स्वरूप एक रैली भी निकाली गई, जहां अमरनाथ यात्रा के लिए निकले सैकड़ों श्रद्धालुओं ने शरण ले रखी है।

प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि पुलिस ने रैली को बीच में ही रोक दिया और भीड़ को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़े. दक्षिणी कश्मीर के कुलगाम में भी प्रदर्शनकारियों को रोका गया। पुलिस ने बताया कि सुरक्षा बलों ने प्रदर्शनकारियों पर पेलेट गन से गोलीबारी की, जिसमें दर्जनों प्रदर्शनकारी घायल हुए। अधिकारियों ने कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए दक्षिण कश्मीरी इलाकों में कर्फ्यू और घाटी में कई अन्य जगहों पर प्रतिबंध लगा रखे हैं। श्रीनगर में बढ़ते तनाव को देख बुधवार को पुलिस और केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF) के जवानों की तैनाती की गई है।

 

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top