एक ट्वीट ने बचाया 26 लड़कियों को अवैध व्यापार के चंगुल से

जिम्मेदार नागरिक की समझदारी से बची मासूम लड़कियां अवैध व्यापार से

Eshwari ShuklaEshwari Shukla   10 July 2018 8:25 AM GMT

एक ट्वीट ने बचाया 26 लड़कियों को अवैध व्यापार के चंगुल से

हाल ही में एक ऐसा किस्सा देखने को मिला जिसके बारें में जानकार आप सोशल मीडिया का आभार करने से खुद को रोक नहीं पाएंगे। 5 जुलाई 2018, उत्तर प्रदेश में आदर्श श्रीवास्तव सुबह अवध एक्सप्रेस (19040) के कोच नंबर s5.में सफर कर रहे थे, पर उस दौरान उन्होंने कुछ ऐसा देखा जो उन्हें कुछ ठीक नहीं लगा। दरअसल हुआ कुछ यूं की आदर्श के कोच में ही 26 किशोर लड़कियां भी मौजूद थीं, ये लड़कियां घबराई हुई लग रही थीं, और इनके साथ दो आदमी भी मौजूद थे । आदर्श को घबराई हुई लड़कियों को देखकर कुछ संदेह हुआ और एक ज़िम्मेदार नागरिक होने का फर्ज़ निभाते हुए आदर्श ने तुरंत अपने फ़ोन से रेल मंत्रालय को एक ट्वीट कर दिया जिसमें आदर्श ने अपनी उस दौरान की लोकेशन और परिस्थिति दोनों को बताया और रेल मंत्रालय से मदद मांगी।

I am traveling in Avadh express(19040). in s5. in my coach their are 25 girls all are juvenile some of them are crying and all feeling unsecure.@RailMinIndia @PiyushGoyal @PMOIndia @PiyushGoyalOffc @narendramodi @manojsinhabjp @yogi

ये भी पढ़ें: ख़बर,फोटो, वीडियो साझा/ शेयर करने से पहले सोचे हज़ार बार: ऐसे करें रिपोर्ट

आदर्श के ट्वीट के जवाब में आधे घंटे में ही रेल मंत्रालय का रेलवे पुलिस के ट्विटर अकाउंट को टैग करते हुए रिप्लाई आया, जिसमें रेलवे पुलिस को तुरंत कड़ा कदम उठाने के लिए कहा गया। इसके कुछ देर बाद रेलवे पुलिस साधारण कपड़ों में कप्तानगंज में ट्रेन में दाखिल हुई और 26 लड़कियों समेत दोनों संदेही आदमियों को पकड़ लिया। पूछताछ के दौरान पता चला लड़कियां चंपारण, बिहार से थी। जिन्हें नरकटियागंज से ईदगाह ले जाया जा रहा था। जिसके बाद में लड़कियों को बाल कल्याण समिति में भेज दिया गया। आखिर में लड़कियों को सुरक्षित सही जगह पहुंचाने के लिए जब आदर्श की ट्विटर पर वाहवाही की गई, तो जवाब में आदर्श ने कहा भारत का नागरिक होने के नाते ये हमारा फर्ज़ है।

ये भी पढ़ें:सोशल मीडिया के हैं कई फायदे, बस ये बातें ध्यान रखनी होंगी

ये भी पढ़ें: सोशल मीडिया पर प्रसारित वो फेक खबरें जिन्हें सब सच मान बैठे


More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top