लगातार दूसरी बार गाँव कनेक्शन को मिला रामनाथ गोयनका पुरस्कार

लगातार दूसरी बार गाँव कनेक्शन को मिला रामनाथ गोयनका पुरस्कार

लखनऊ। भारत के ग्रामीण अखबार गाँव कनेक्शन ने लगातार दूसरी बार देश का सर्वोच्च पत्रकारिता सम्मान प्राप्त किया है।

गाँव कनेक्शन की अनु सिंह चौधरी को ‘स्पोर्ट्स जर्नलिज्म’ श्रेणी में रामनाथ गोयनका पुरस्कार मिला है। यह पुरस्कार उन्हें ग्रामीण लड़कियां कैसे खेलों के ज़ारिये ख़ुद को सशक्त बना रही हैं, इस बारे में लिखी गयी कहानियों की सिरीज़ के लिए मिला है। 

 “गांव कनेक्शन में छपी हमारी इस सीरीज़ की सच्ची कहानियों से साबित हो गया है कि सीमित संसाधनों और अवसरों के बावजूद गांवों की हुनरमंद लड़कियां अपने लिए नए रास्ते बना रही हैं। रास्ता दूभर है, लेकिन बंद नहीं है। गोयनका अवॉर्ड उसी जज़्बे को मिला सम्मान है” अनु सिंह चौधरी ने कहा।

अनु सिंह चौधरी पहले भी गाँव कनेक्शन का प्रतिनिधित्व करते हुए ‘लाडली राष्ट्रीय मीडिया पुरस्कार’ प्राप्त कर चुकी हैं।

“अनु सिंह बेहद संवेदनशील लेखिका हैं। इन्होंने ग्रामीण लड़कियों की इस सिरीज़ के ज़रिये ग्रामीण भारत से जुड़े कई मिथक भी तोड़े और ग्रामीण भारत से जुड़ी पत्रकारिता को एक नया दर्जा दिया है” गाँव कनेक्शन के संस्थापक नीलेश मिसरा ने कहा।

भारत की सबसे बड़ी ग्रामीण मीडिया कम्पनी गाँव कनेक्शन को वर्ष 2014 में भी ‘अनकवरिंग इंडिया इनविज़िबल’ श्रेणी में रामनाथ गोयनका सम्मान मिल चुका है। यह सम्मान गाँव कनेक्शन के संस्थापक नीलेश मिसरा और एसोसिएट एडिटर मनीष मिश्र ने जीता था।

गाँव कनेक्शन अब तक दो बार ‘लाडली राष्ट्रीय मीडिया पुरस्कार’ प्राप्त कर चुका है, जिसमे से एक सम्मान समूह के प्रधान सम्पादक डॉ एसबी मिसरा को दूसरा अनु सिंह को मिला था। 

राष्ट्रीय पुरस्कारों के साथ ही अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी गाँव कनेक्शन को सराहा जा चुका है। जर्मनी के ‘डॉएचे वेले’ द्वारा गाँव कनेक्शन वेबसाइट को समाज में बदलाव लाने के लिए दुनिया भर की वेबसाइट्स में से चुना गया था। 

ब्रिटेन के फॉरेन प्रेस एसोसिएशन व थॉम्सन फाउंडेशन ने साझा रूप से दुनिया भर के विकासशील देशों के युवा पत्रकारों में से गाँव कनेक्शन के भास्कर त्रिपाठी को भी सर्वोत्तम 12 में चुना था।

उत्तर प्रदेश के 50 ज़िलों में गाँव कनेक्शन साप्ताहिक अखबार की एक लाख प्रतियों को 15 लाख लोग पढ़ते हैं। बारह पन्नों का यह ब्रॉडशीट अखबार पूर्णतः रंगीन है। साथ ही वेबसाइट ( www.gaonconnection.com ) पर भी देश-विदेश से लाखों पाठक गाँव कनेक्शन से जुड़े हुए हैं।

इस मीडिया कंपनी का दायरा यहीं तक सीमित नहीं, जल्दी ही इन्टरनेट आधारित ‘गाँव कनेक्शन टीवी’ और भारत के पहले ग्रामीण न्यूज़ वायर सर्विस ‘रूरलवायर’ के साथ ही गाँव कनेक्शन नए आयामों में विस्तार कर रहा है।

Tags:    India 
Share it
Top