लगातार जुकाम से हो सकता है साइनस

लगातार जुकाम से हो सकता है साइनसgaoconnection

कई बार सर्दी या किसी एलर्जी की वजह से नाक में बलगम जम जाता है। नाक की हड्डियों के छिद्र बंद हो जाते हैं और इंफेक्शन हो जाता है। यह साइनस कहलाता है। इसमें गले की हड्डियां छूने में भी दर्द होती हैं। इस बारे में बता रहीं हैं नाक,कान गला रोग विशेषज्ञ डॉ. रूचिर धवन-

लक्षण

  • आवाज में बदलाव
  • सिर दर्द
  • सिर का भारी लगना
  • नाक या गले में बलगम आना
  • हल्का बुखार, आंखों में पलकों के ऊपर या दोनों किनारों पर दर्द रहना
  • तनाव या निराशा 
  • चेहरे पर सूजन व नाक से पीला या हरे रंग का रेशा भी गिरता है।

उपाय

भाप लें 

बारी-बारी दोनों नाक साफ  करने के बाद एक बर्तन में पानी उबालें। फिर डॉक्टर द्वारा बताई गई दवा उचित मात्रा में डालकर कपड़ा ढककर नाक व मुंह से लंबी-लंबी सांस आठ से दस मिनट तक लें।

सिकाई करें 

गर्म कपड़ा या फिर गर्म पानी की बोतल गालों के ऊपर रखकर सिकाई करनी चाहिए। ऐसा लगभग एक-एक मिनट दिन में तीन बार करना चाहिए। इससे काफी आराम मिलता है।

नाक की सफ़ाई

नाक की सफाई करने से भी सिरदर्द कम करने में काफी मदद मिलती है। माना जाता है कि नाक की झिल्ली पर अनेक प्रकार के वायरस, बैक्टीरिया, फफूंदी और धूल-मिट्टी के कण होते हैं, जिनको साफ  करने से बीमारी को आगे बढ़ने से रोका जा सकता है। नाक को साफ  करने के लिए आधा गिलास गुनगुना पानी लेकर उसमें एक चम्मच मीठा सोडा या एक चुटकी नमक मिलाएं, फिर फिर उस पानी को हथेली में लेकर नाक में पानी खींचकर आगे निकाल दें। इस प्रक्रिया से नाक बिल्कुल साफ  हो जाती है और सिरदर्द सेे आराम मिलती है।    

Tags:    India 
Share it
Top