लहसुन की खेती से छह महीने में लाखों की कमाई

लहसुन की खेती से छह महीने में लाखों की कमाईgaoconnection

लखनऊ। परंपरागत खेती के साथ साथ अब किसान नई तकनीक अपनाकर कम लागत में ज्यादा मुनाफा कमाने के लिए और भी विकल्प अपना रहे हैं। ऐसे में लहसुन की खेती भी किसानों के लिए फायदे का सौदा है। 

फतेहपुर जिले के मालवा तहसील के आंग गाँव किसान रामबाबू पटेल (47 वर्ष) ने लहसुन की खेती से लाखों रुपये कमा रहे हैं, बल्कि दूसरे किसानों को भी अपने साथ में जोड़कर उन्नत खेती करना सिखा रहे हैं। दूसरे किसानों की तरह रामबाबू भी पहले धान गेहूं जैसी फसलों की खेती करते थे, साथ में सब्जियों की खेती भी करते थे।

अपनी खेती की शुरुआत के बारे में रामबाबू पटेल बताते हैं, “पहले मैं भी अपने यहां के दूसरे किसानों की तरह खेती करता, सब्जियों के साथ ही लहसुन की भी खेती कर रहा था, लेकिन सही जानकारी न होने से सही पैदावार नहीं मिलती थी, जबकि लागत ज्यादा लगती थी।”

वो आगे बताते हैं, “हमारे यहां के कृषि वैज्ञानिक से पुणे के लहसुन एवं प्याज अनुसंधान संस्थान में चल रहे प्रशिक्षण कार्यक्रम के बारे में पता चला एक हफ्ते के प्रशिक्षण में लहसुन की उन्नत खेती के बारे में बताया गया।” पांच साल पहले तक रामबाबू के पास सिर्फ सवा बीघा जमीन थी, खेती से ही उन्होंने 10 बीघा जमीन खरीद ली है।

लहसुन एवं प्याज अनुसंधान संस्थान में प्रशिक्षण लेने के बाद रामबाबू ने एक एकड़ खेत में लहसुन की लगाया, जिसकी कुल लागत 45 हजार रुपये आयी थी। छह महीने में लहसुन की फसल तैयार हो गयी और जिसे बेंचने पर सवा दो लाख रुपये की आमदनी हुई। रामबाबू बताते हैं, “ट्रेनिंग में किसानों को बताया जाता है, कि किस समय कौन सी खाद डालनी चाहिए। जैसे नाइट्रोजन तब देना है जब पौधे की बढ़वार होती है। दिन के हिसाब से कीटनाशक का छिड़काव किया जाता है। पहले सही जानकारी न होने से जड़ की बढ़वार होने के बजाय पौधों की बढ़वार हो जाती थी।”

उन्नत खेती के लिए रामबाबू को तीन बार फतेहपुर के जिलाधिकारी ने सम्मानित किया है। साथ ही पूसा दिल्ली में भी उन्हें सम्मानित किया गया है।

फसल तैयार होने के बाद रामबाबू खुद ही मण्डी तक बेंचने भी ले जाते हैं। कानपुर की मण्डी में इन्होंने लहसुन की बिक्री की थी। “खुद से बेंचने पर व्यापारियों का झंझट नहीं होता, कई बार व्यापारी जल्द पैसा ही नहीं देते हैं जिससे परेशानी होती है, ऐसे में हम लोग खुद ही मंडी तक अपने उत्पाद पहुंचाते हैं।” वो बताते हैं।

लहसुन एवं प्याज अनुसंधान संस्थान के वैज्ञानिक प्रशिक्षण कार्यक्रम के बाद भी किसानों की मदद करते हैं। संस्थान के वैज्ञानिक रामचन्द्र गुप्ता बताते हैं, “संस्थान से किसानों को प्रशिक्षण दिया जाता है, जिससे लहसुन और प्याज की खेती में भी किसानों का रुझान बढ़े। ऐसे में कई किसान लहसुन की उन्नत खेती कर रहे हैं।”

रामबाबू ने पिछले वर्ष अप्रैल में अनार के 450 पौधे भी लगाए थे, जिसमें इस बार फल आ गए हैं। अनार की खेती के बारे में रामबाबू कहते हैं, “पिछले साल महाराष्ट्र से अनार के टिश्यू कल्चर के पौधे मंगाए थे, जो एक साल में ही तैयार हो गए हैं। अनार की बागवानी से ये फायदा है हम इसके साथ दूसरी खेती भी कर सकते हैं। अनार के फल को बाजार तक पहुंचाने में भी कोई परेशानी नहीं होती है।”

Tags:    India 
Share it
Top