मानवाधिकार आयोग का यूपी के मुख्य सचिव को नोटिस

मानवाधिकार आयोग का यूपी के मुख्य सचिव को नोटिसगाँव कनेक्शन

नई दिल्ली (भाषा)। नोएडा के दिल्ली पब्लिक स्कूल के छात्रावास में रैगिंग की कथित घटना पर गंभीर रुख अपनाते हुए राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (एनएचआरसी) ने उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव और गौतमबुद्धनगर के जिलाधिकारी एवं वरिष्ठ पुलिस अध्यक्ष को नोटिस जारी किए हैं। घटना में 11वीं कक्षा के दो छात्र घायल हो गए थे। आयोग ने मीडिया में बुधवार को आई खबरों का स्वत: संज्ञान करते हुए नोटिस जारी किए। 

खबरों के अनुसार 11वीं कक्षा के दो छात्रों के रैगिंग का विरोध करने और स्कूल प्रशासन को मामले की जानकारी देने पर उनके सीनियर छात्रों ने उन्हें बुरी तरह पीटा। घटना गत आठ मई को हुई जब पीड़ित छात्र रात को खाना खाने के बाद अपने छात्रावास लौट रहे थे। 

एनएचआरसी ने एक बयान में कहा, ‘‘यह मानते हुए कि घटना से जीने के अधिकार और युवा छात्रों का सम्मान गंभीर रूप से प्रभावित होता है, आयोग ने उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव और गौतमबुद्ध नगर के जिलाधिकारी एवं वरिष्ठ पुलिस अध्यक्ष को नोटिस जारी कर चार हफ्तों के अंदर रिपोर्ट सौंपने को कहा है।’’ आयोग ने कहा कि शैक्षणिक संस्थानों में रैगिंग पर प्रतिबंध लगा हुआ है और इस संदर्भ में राघव समिति की सिफारिशों पर कुछ दिशानिर्देश जारी किए गए हैं।  

आयोग ने कहा कि स्कूल प्रशासन रैगिंग की समस्या से छात्रों की हिफाजत सुनिश्चित करने के लिए कानूनी रूप से बाध्य हैं। खबरों के अनुसार कुछ दिनों पहले भी एक पीड़ित को उसके सीनियर छात्रों ने रैगिंग के नाम पर प्रताड़ित किया था। तब स्कूल प्रबंधन ने उसे प्राथमिक चिकित्सा देने के बाद कुछ दिन घर पर रहने को कहा था। बयान में दावा किया गया कि आठ मई की घटना के बाद भी स्कूल प्रबंधन ने पहले पीड़ितों के अभिभावकों को पुलिस में मामला दर्ज न करने के लिए समझाया।

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.