Top

मध्य प्रदेश के पन्ना टाइगर रिजर्व में जन्म के बाद पहली बार नजर आए शावक

मध्य प्रदेश के पन्ना टाइगर रिजर्व में जन्म के बाद पहली बार नजर आए शावकबाघिन टी-151 अपने शावक के साथ। फोटो- अरेंजमेंट

पन्ना (मध्य प्रदेश)। बाघों के लिए प्रसिद्ध मध्य प्रदेश के पन्ना टाइगर रिजर्व में फिर एक बाघिन ने नन्हे शावकों को जन्म दिया है। बाघिन पी-151 अपने दो शावकों के साथ शुक्रवार 9 अप्रैल को सुबह पहली बार नजर आई है। पार्क में घूमने आए कुछ पर्यटकों ने इस बाघिन को शावकों के साथ चहल-कदमी करते हुए देखा बल्कि उसका वीडियो भी बनाया है।

बाघिन पी-151 पन्ना टाइगर रिजर्व की संस्थापक बाघिन टी-1 की बेटी है। इस बाघिन ने दूसरी बार शावकों को जन्म दिया है। गौरतलब है कि इसके पहले 26 मार्च को बाघिन टी-6 अपने चार नन्हे शावकों के साथ दिखी थी। बीते 4 महीनों के भीतर पन्ना टाइगर रिजर्व में 15 शावकों का जन्म हो चुका है। इतनी बड़ी संख्या में शावकों की मौजूदगी के चलते पन्ना टाइगर रिजर्व पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र बना हुआ है।

पर्यटक गाइड मनोज कुमार द्वेदी ने बताया, "बाघिन पी-151 पहली बार अपने शावकों के साथ जंगल में दिखी है। शावकों की उम्र दो से ढाई माह के लगभग होगी। शुक्रवार सुबह जब पर्यटकों को लेकर हम कमानी गेट से पक्का गढ़ा की तरफ जा रहे थे, उसी समय रास्ते में यह बाघिन दो शावकों के साथ नजर आई। इस दौरान 5 जिप्सियों में सवार पर्यटकों ने इस नजारे को देखा।"

अपने परिवार के साथ पन्ना टाइगर रिजर्व घूमने के लिए आए राजकीय इंजीनियरिंग कॉलेज बांदा के डॉ. अनुराग चौहान ने बताया, "शावकों के साथ बाघिन को इतने नजदीक से देखना बेहद रोमांचकारी अनुभव रहा। उनका परिवार बेहद खुश है। शावक बहुत ही प्यारे व फुर्तीले दिख रहे थे। एक शावक मां के साथ था व दूसरा कुछ दूरी पर था। बाघिन जंगल में अंदर की तरफ जा रही थी, अचानक रुकी और पीछे छूट गए शावक के पास पहुंच गई तथा उसे अपने साथ लेकर घने जंगल में चली गई।" डॉ. चौहान के आगे वाली जिप्सी में सवार रहे पर्यटक बृजेश सिंह ठाकुर ने शावकों के साथ चहल-कदमी करती बाघिन का वीडियो बनाया है।

इनपुट- अरुण सिंह, पन्ना

ये भी पढ़े- बाघ विधवाओं की कहानियां, जो सुंदरबन में बाघों के हमले में अपने पतियों को खो चुकी हैं

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.