मध्य प्रदेश में किसानों का एक नया आंदोलन, समर्थन में 170 किमी की साष्टांग दंडवत यात्रा कर पहुंचे किसान

Sanjay SrivastavaSanjay Srivastava   22 Jan 2018 10:38 AM GMT

मध्य प्रदेश में किसानों का एक नया आंदोलन, समर्थन में 170 किमी की साष्टांग दंडवत यात्रा कर पहुंचे किसानभोपाल के भेल दशहरा मैदान में अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल। फाइल फोटो

भोपाल। ठीक छह माह पहले किसानों के उग्र मंदसौर आंदोलन के बाद एक बार फिर किसानों ने सरकार के खिलाफ एक नया आंदोलन छेड़ दिया है। इस बार का देशव्यापी मुद्दा है।

दूध देना बंद कर चुकी गायों को छुट्टा (आवारा) छोड़ने वाले पशुमालिकों पर आपराधिक मामला दर्ज करने व हर गांव में एक गौशाला शुरू करने की मांग लेकर किसानों ने भोपाल के भेल दशहरा मैदान में अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल शुरू कर दी हैं। इस आंदोलन की शुरूआत 17 जनवरी से हुई थी, इस आंदोलन के समर्थन में मध्य प्रदेश के कोने कोने से किसान आए हैं।

इस आंदोलन को सफल बनाने के लिए कई किसानों ने साष्टांग दंडवत यात्रा की, जिसमें वे रायसेन जिले के भौरा गांव से भोपाल के भेल दशहरा मैदान तक 170 किलोमीटर तक साष्टांग दंडवत यात्रा कर 16 दिन में पहुंचे।

ये भी पढ़ें- मध्य प्रदेश : 2018 में शिवराज की राह में किसानों की नाराजगी बन सकती है रोड़ा ?

आंदोलनरत किसानों के नेता सुनील दीक्षित कहा, दूध देना बंद कर चुकी गायों को आवारा छोड़ने वाले पशुमालिकों पर आपराधिक मुकदमा दर्ज करने सहित अपनी अन्य अहम मांगों के समर्थन में हम यहां अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल कर रहे हैं। इसमें हर गांव में गौशाला शुरू करने की भी मांग शामिल है।

ये भी पढ़ें- बवाना पटाखा फैक्टरी में लगी आग का दर्द बयां करती तस्वीरें 

उन्होंने आगे कहा कि किसानों को उनकी उपज का न्यूनतम समर्थन मूल्य भी मिलना चाहिए। आर्थिक रूप से कमजोर किसानों को भी आरक्षण सुविधा दी जाए, ताकि मजदूर किसानों और छोटे व गरीब किसानों को इसका फायदा मिल सके।

ये भी पढ़ें- बदरका : ‘आज़ाद’ का वो गांव जहां मेरा बचपन बीता

दीक्षित ने दावा किया कि प्रदेश के सभी इलाकों से आए किसान इस आंदोलन में शामिल हो रहे हैं। कांग्रेस और आम आदमी पार्टी ने भी आंदोलनकारी किसानों का समर्थन किया है।

ये भी पढ़ें- महाराष्ट्र में देवेन्द्र फडणवीस ने मांगें मानीं, यशवंत सिन्हा का किसान आंदोलन खत्म 

मध्यप्रदेश विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने आंदोलनकारी किसानों से मुलाकात की। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार को किसानों की 33 सूत्रीय मांगों पर संज्ञान लेना चाहिए। उन्होंने कहा, प्रदेश भाजपा सरकार द्वारा किसानों से किए गए वादे खोखले निकले हैं। किसानों को उनकी उपज का वाजिब दाम भी हासिल नहीं हो पा रहा है। भाजपा सरकार केवल यात्राओं में ही सरकारी धन का दुरूपयोग कर रही है।

ये भी पढ़ें- किसान आंदोलन से प्रभावित होगी खरीफ की बुवाई, पैदावार पर भी पड़ेगा असर

देश से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

मध्य प्रदेश भाजपा के प्रवक्ता रजनीश अग्रवाल ने कहा कि प्रदेश सरकार पहले ही किसानों के लिए कई योजनाएं लागू कर चुकी है। इसमें से आंदोलनकारी किसानों की कई मांगें भी शामिल हैं, किसानों की सभी उचित मांगों पर विचार किया जा रहा है।

(भाषा)

ये भी पढ़ें- दिल्ली किसान आंदोलन का दूसरा दिन : पंजाब के किसान बोले, देश का पेट भरने के लिए सरकारों ने हमें बर्बाद किया

फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top