मध्य प्रदेश

एमपी: एक ऐसा थाना जहां सुनी जाती है पशुओं की फरियाद

आपने इंसानों के पुलिस थाने के बारे में तो सुना होगा, जहां पर लोग अपनी फरियाद लेकर जाते हैं, लेकिन एक ऐसा भी थाना शुरु किया गया है, जहां पर पशुओं की फरियाद सुनी जाती है।

पशुओं के साथ बढ़ते अपराध और क्रूरता को कम करने के लिए इंदौर पुलिस ने पीपुल फॉर एनिमल संस्था की इंदौर यूनिट के साथ मिलकर पशु फ्रेंडली पुलिस थाने (पशु क्रूरता निवारण सहायता केंद्र) की शुरुआत की है। "देश में लगातार पशुओं को लेकर क्रूरता बढ़ती जा रही है। इसको रोकने के उद्देश्य से ही इस थाने को शुरू किया गया है। अगर हर प्रदेश में ऐेसे थाने खुले तो जागरूकता तो बढ़ेगी साथ ही पशुओं के साथ होने वाली क्रूरता को भी काफी हद तक रोका जा सकेगा, "ऐसा बताती हैं, पीपुल फॉर एनिमल संस्था इंदौर यूनिट की पशु कल्याण अधिकारी प्रियांशु जैन।

यह भी पढ़ें- पशुओं को प्राथमिक चिकित्सा देने के लिए ये हैं पांच उपाय

चलायी गई है हेल्पलाइन

पशुओं के प्रति बढ़ रहे अपराधों के बारे में जैन बताती हैं, "पशु को जान से मार देना, गाय के ऊपर एसिड डालना, कुत्तों के बच्चों को फेंक देना जैसे 55 मामले आ चुके थे जिनमें पशुओं के साथ क्रूरता हुई थी। अलग-अलग थानों में आवेदन दे चुके थे लेकिन कार्यवाही नहीं होती थी और वो व्यक्ति आसानी से बच के निकल जाता था और फिर से पशु के साथ क्रूरता करता है। ऐसे में ये पहल जरूरी थी।"

इस थाने का हेल्पलाइन नंबर 9479713971 है। इस हेल्पलाइन का कामकाज एक थाने जैसा हो, इसलिए शहर के कनाड़िया थाने को पशुओं के थाने में तब्दील कर दिया गया है। "इस थाने को चार अप्रैल को शुरू किया गया था। अब 20 से ज्यादा मामले आ चुके है। पशु क्रूरता को कम करने के लिए लोगों में जागरूकता पैदा करना बहुत जरूरी है। यह पहले जो मामले हमारे पास आते है उसमें हम कांउसिलिंग करते है। फिर भी नहीं ठीक होता है तो कार्यवाही करते हैं।" जैन ने बताया। प्रियांशु जैन के मुताबिक यह देश का पहला पशु फ्रेंडली पुलिस थाना है।

यह भी पढ़ें- पशु की खरीद-बिक्री के लिए भटकने की जरूरत नहीं, केंद्र सरकार ने शुरू की योजना

इस हेल्पलाइन में पशुओं के साथ होने वाले अत्याचार और परेशानी को बता सकते हैं। जो व्यक्ति सूचना देता है उसकी पहचान गोपनीय रखी जाती है।

ये भी पढ़ें- इनसे मिलिए, ये पशु-पक्षियों को बचाने के लिए किसी भी हद तक जा सकते हैं