चार एकड़ में फैला है ये 400 साल पुराना बरगद का पेड़ 

चार एकड़ में फैला है ये 400 साल पुराना बरगद का पेड़ प्रतीकात्मक फोटो

लखनऊ। बेंगलुरु से 25 किलोमीटर दूर बरगद का एक पेड़ चार एकड़ में फैला है। इसकी उम्र 400 साल से अधिक है। इस खासियत से यह पर्यटन का आकर्षण बन गया है।

इसी प्रकार एमपी में भी टीकमगढ़ से थोड़ी दूरी पर स्थित लिधौरा तहसील के बारी गांव में 400 साल पुराना बरगद का पेड़ लगभग 2 एकड़ से ज्यादा जगह में फैला है। पेड़ काफी घना है। इसे देखकर ऐसा लगता है मानो पूरा जंगल हो।

एक ग्रामीण ने बताया कि 12 गांव के लोगों ने इस पेड़ की निगरानी कर इसे बचाया। इसकी जड़ में फफूंदी लग गई थी जिससे वह बर्बाद हो गई। लेकिन समय रहते इसे बचा लिया गया। इस कारण ये पेड़ बढ़ता जा रहा है। इसके 100 से भी, ज्यादा जमीन में घुसकर तने का रूप ले चुकी पेड़ की शाखाओं से निकली जड़ें, जिन्हें आमतौर पर जटाएं कहते हैं।

इस वृक्ष के पास एक ऐसा कुंड भी है जो हमेशा पीने के लिए पानी देता है। क्षेत्र में कितना भी सूखा क्यों न हो इस कुंड में पानी जरूर रहता है। पेड़ की निगरानी-भदरई, बारी, लखनपुरा, उदयपुरा, लिधौरा, कुंवरपुरा, जरूआ, गोटेट, महेवा, सुनरई, बारोन व खरो गांव के लोग करते हैं।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top