ए आर रहमान की रचनात्मकता से तुलना करना मुश्किल: इला पालीवाल 

ए आर रहमान की रचनात्मकता से तुलना करना मुश्किल: इला पालीवाल ए आर रहमान

मुंबई (भाषा)। गायिका इला पालीवाल का कहना है कि ऑस्कर पुरस्कार विजेता के विचार प्रक्रिया और रचनात्मकता से मेल खाना मुश्किल है। इला का पहला एलबम ‘नवरत्न' आ रहा है जिसका निर्माण ए आर रहमान ने किया है।

इला ने बताया, ‘‘रहमान की विनम्रता, उनकी प्रतिभा और क्षमता उन्हें दूसरे लोगों से अलग, एक अलग इंसान बनाता है। उनके सोचने की प्रक्रियाओं और रचनात्मकता की तुलना करना मुश्किल है। वह जिस तरह से संगीत को समझते हैं वैसे कोई दूसरा नहीं सोचता।'' उन्होंने कहा, ‘‘एलबम के हर पहलू में उनका जुड़ाव महत्वपूर्ण था क्योंकि इसने उत्कृष्ट कृति बनाने में अहम योगदान दिया। वह हर गीत सुनते हैं और हम लोगों ने कई बार साथ काम किया।''

एलबम की अवधारणा और गीत इला ने गाया है। संगीत रंजीत बरोट ने दिया है और इसका निर्माण ए आर रहमान ने किया है। एलबम के नौ गीत भारतीय त्यौहार जैसे पोंगल, होली, बैशाखी, ईद, जन्माष्टमी, गणेश चतुर्थी, दुर्गा पूजा, दिवाली और क्रिसमस पर आधारित हैं।

दरअसल सेना कल्याण कोष को दान के संबंध में विवाद तब उठा जब निर्माता करण जौहर की फिल्म ‘‘ऐ दिल है मुश्किल'' के खिलाफ मनसे ने विरोध शुरु किया। मनसे का विरोध इसलिए है क्योंकि फिल्म में पाकिस्तानी कलाकार फवाद खान ने काम किया है। उरी हमले के बाद पाकिस्तानी कलाकारों के बॉलीवुड में काम करने को लेकर विरोध के स्वर तेज हो गए हैं।

‘‘ऐ दिल है मुश्किल'' को रिलीज की अनुमति तब दी गई जब इसके निर्माता मनसे प्रमुख राज ठाकरे की तीन शर्तें मानने को तैयार हो गए। इनमें एक शर्त यह है कि निर्माता को पांच करोड रुपये सेना कल्याण कोष में देने होंगे।

सेना के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया ‘‘(कल्याण कोष के लिए) योगदान स्वैच्छिक होता है। जबरन वसूली की अनुमति नहीं है। हम चाहते हैं कि लोग अपनी मर्जी से योगदान करें, न कि किसी तरह के दबाव में।'' सेना के सूत्रों ने बताया कि सभी तरह के दान की जांच के लिए उनके पास एक व्यवस्था है और किसी भी तरह के दबाव में या फिर ऐसे व्यक्ति द्वारा दिए गए दान को अस्वीकृत किया जा सकता है जिसके साथ बल संबद्ध नहीं होना चाहता।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top