अक्षय कुमार नहीं असली पैडमैन हैं अरुणाचलम मुरुगनाथम

Sanjay SrivastavaSanjay Srivastava   7 Feb 2018 6:10 PM GMT

अक्षय कुमार नहीं असली पैडमैन हैं अरुणाचलम मुरुगनाथमअसल जिंदगी के पैडमैन अरुणाचलम मुरुगनाथम

नई दिल्ली। माहवारी पर शायद ही कभी किसी पुरुष को बात करते सुना गया हो, यहां तक कि खुद महिलाएं भी इस पर बात करने से कतराती रहतीं हैं। फिल्म 'पैडमैन' में महिलाओं की माहवारी और उससे जुड़ी स्वच्छता व मिथकों पर खुलकर बात करने के लिए प्रेरित किया गया है। यह फिल्म नौ फरवरी को दर्शकों के सामने होगी। फिल्म में अक्षय कुमार पैडमैन की भूमिका निभा रहे हैं पर असल जिंदगी के पैडमैन अरुणाचलम मुरुगनाथम हैं।

इस चैंलेज के बारे में खुद मुरुगनाथम ने बताया, "मैं अन्य लोगों के बीच माहवारी से जुड़ी स्वच्छता जागरूकता फैलाना चाहता था और चाहता था कि इस विषय पर लोगों की झिझक दूर हो। इस चैलेंज के जरिए हम यह बताने का प्रयास कर रहे हैं कि माहवारी कोई शर्म की बात नहीं है, बल्कि यह शरीर की सामान्य प्रक्रिया है।"

ये भी पढ़ें- ऑफिस में महिलाओं के लिए शौचालय न होना भी कार्यक्षेत्र में यौन उत्पीड़न है

बेहद कम पढ़-लिखे होने के बावजूद अरुणाचलम मुरुगनाथम ने आईआईएम-अहमदाबाद, आईआईएम-बेंगलुरू, आईआईटी-मुंबई और हार्वर्ड यूनिवर्सिटी सहित कई प्रतिष्ठित संस्थानों में व्याख्यान दिए जिसे सुन वे सभी आश्चर्य चकित हुए। मुरुगनाथम को टाइम मैगजीन ने वर्ष 2014 में विश्व के सबसे 100 प्रभावशाली लोगों की सूची में शामिल किया था और वर्ष 2016 में उन्हें देश के सर्वोच्च पुरस्कारों में से एक पद्मश्री से सम्मानित किया गया।

ये भी पढ़ें- “सबको जानना चाहिए - पीरियड्स क्या होते हैं, लड़कियां पैड का इस्तेमाल क्यों करती हैं” 

माहवारी पर सार्वजनिक मंच पर बात करना अपने आप में एक वीरता की बात है, इस पर मुरुगनाथम ने कहा, "मुझे लगता है कि हर पिता, हर बेटे, हर भाई और हर पुरुष को माहवारी के बारे में पता होना चाहिए और उन्हें इससे जुड़ी स्वच्छता की भी जानकारी होनी चाहिए। माहवारी केवल महिलाओं से नहीं, बल्कि पुरुषों से भी संबंधित है और इस पर जोर देने के लिए हमने इस चैलेंज की शुरुआत की।"

ये भी पढ़ें- इस पैडवुमेन की कहानी पढ़िए, अमेरिका से लौटकर गाँव की महिलाओं को कर रहीं जागरूक

अरुणाचलम मुरुगनाथम का जन्म तमिलनाडु के कोयंबटूर में एक गरीब परिवार में हुआ। सबसे पहले अपने इस विचार को उन्होंने अपने घर से ही शुरू किया। किसा की नहीं सुनी, पत्नी और मां सहित घर सभी सदस्य समझा कर हार गए पर अपने लक्ष्य के आगे सबको चुप कर दिया। यहां तक कि उनकी पत्नी उन्हें छोड़कर चली गईं, पर उन्होंने हार नहीं मानी और अपने लक्ष्य को पूरा करने में जुटे रहे।

ये भी पढ़ें- मासिक धर्म का बहाना बनाकर छुट्टी न लें महिलाएं : ट्विंकल 

और यही से हुआ फिल्म 'पैडमैन' का जन्म। अभिनेता अक्षय कुमार की पत्नी ट्विंकल ने उनके संघर्षो से प्रेरित होकर यह फिल्म 'पैडमैन' बनाई। फिल्म 'पैडमैन' नौ फरवरी को दर्शकों से रुबरू होगी। रिलीज से पहले सोशल मीडिया पर 'पैडमैन चैंलेज' लॉन्च किया गया, जिसे बॉलीवुड के बड़े-बड़े सितारों ने स्वीकार किया है।

ये भी पढ़ें- ये हैं लखनऊ के पैडमैन : लड़कियां बेझिझक मांगती हैं इनसे सेनेटरी पैड

'पैडमैन चैलेंज' के लॉन्च होने के बाद से इसे आमिर खान, करण जौहर, अर्जुन कपूर, माधुरी दीक्षित, अदिति राव हैदरी, दीपिका पादुकोण, सोनम कपूर, हुमा कुरैशी, दीया मिर्जा सहित कई बॉलीवुड हस्तियों ने स्वीकार किया और अपने हाथों में पैड लेकर तस्वीर खिंचवाई और सोशल मीडिया पर उसे साझा किया।

ये भी पढ़ें- बजट में ऐसा कुछ नहीं जो किसान-कॉरपोरेट की बड़ी खाई को कम कर सके : मेधा पाटकर 

उसने कभी नहीं सोचा की फिल्म बन जाएगी

क्या असल जिंदगी के पैडमैन ने कभी सोचा था कि उन पर कोई फिल्म भी बनेगी? इस सवाल पर मुरुगनाथम ने कहा, "कभी नहीं..मैंने ऐसा कभी नहीं सोचा था। चूंकि यह एक ऐसा विषय है जिस पर जहां भी मैं जाकर बात करता था, लोग मुझे पीटने लगते थे। कौन सोचेगा कि इस पर कोई फिल्म बना सकता है। मैं इस पर बात तक करने से डरता था और मैं जब बात करता था तो अपने दोनों गालों को अपने दोनों हाथों से छुपा लेता था। इसलिए यह बहुत बड़ी बात है कि इस विषय पर फिल्म बनी है।"

मनोरंजन से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

इनपुट आईएएनएस

फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top