मशहूर मलयालम फिल्म निर्देशक आई. वी. ससी का निधन  

मशहूर मलयालम फिल्म निर्देशक आई. वी. ससी का निधन  मशहूर मलयालम फिल्म निदेशक आई. वी. ससी।

चेन्नई (आईएएनएस)। मशहूर मलयालम फिल्म निदेशक आई वी ससी का मंगलवार को चेन्नई में निधन हो गया। परिवारिक सूत्र के मुताबिक, वह 67 वर्ष के थे। उन्होंने सुपरस्टार ममूट्टी, मोहनलाल और जयन जैसे कलाकारों की सफलता में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

लगभग चार दशकों के करियर में उन्होंने 150 से अधिक फिल्मों का निर्देशन किया। इनमें तमिल और हिंदी फिल्में भी शामिल हैं। वह काफी समय से बीमार थे। उनके परिवार में पत्नी सीमा यानी गुजरे जमाने की मशहूर अदाकारा, एक बेटा और एक बेटी हैं। सूत्रों के मुताबिक, उनकी अंत्येष्टि अस्ट्रेलिया में रह रही बेटी के यहां पहुंचने के बाद की जाएगी।

फिल्मी-दुनिया से कुछ समय से दूर ससी फिर निर्देशन की योजना बना रहे थे। उन्होंने सोहन रॉय के साथ वर्ष 1990 में इराक द्वारा कुवैत पर हुए आक्रमण पर फिल्म बनाने की घोषणा की थी। वहीं ससी के निधन की खबर से पूरे फिल्म-उद्योग में शोक की लहर है, सभी उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित कर रहे हैं।

द एसोसिएशन ऑफ मलयालम मूवी आर्टिस्ट्स (एएमएमए) और लोकसभा सदस्य इनोसेंट ने कहा, "ससी का निधन मलयालम फिल्म उद्योग के लिए एक अपूरणीय क्षति है।"

इनोसेंट ने कहा, "जब मैंने करियर की शुरुआत की तो ससी निर्देशक थे और वे ऐसी ऊंचाई पर थे, जहां तक कोई नहीं पहुंच सकता। उन्होंने अपनी फिल्मों के माध्यम से साबित कर दिया कि एक निर्देशक कलाकारों को बुलंदियों पर पहुंचा सकता है।"

अभिनेता-निर्देशक जॉय मैथ्य ने कहा कि जब आज की तरह प्रौद्योगिकी उपलब्ध नहीं थी, तब वे यादगार फिल्में बनाते थे। उन्होंने कहा, "अपनी कुर्सी पर बैठकर, वह आसानी से एक शॉट पूरा कर सकते थे, जिसमें सैकड़ों लोग अभिनय कर रहे होते थे। उनके दिनों में, टीवी मॉनीटर पर शॉट देखने की लक्जरी का प्रयोग नहीं किया जाता था, लेकिन वह दृश्य और सटीक शॉट के साथ कल्पना कर सकते थे और वह शानदार थे।"

अभिनेता दलकीर सलमान ने कहा कि उन्होंने मलयालम सिनेमा को अपना युग बनाया। कमल पिछले 45 वर्षों से ससी के मित्र थे। उनके निधन पर उन्होंने ट्वीट किया, "उद्योग और मैं एक महान तकनीशियन के प्रति शोक व्यक्त करता है। बहन सीमा ससी और उनके परिवार को मेरा प्यार और साथ।"

ससी ने वर्ष 1978 में फिल्म 'अवलुड़े रावुकल' के साथ निर्देशन करियर की शुरुआत की। यह एक यौनकर्मी के जीवन पर आधारित थी, इसमें सीमा ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, जो बाद में उनकी पत्नी बनीं।

वर्ष 1980 में ममूट्टी और मोहनलाल ने खुद को सुपरस्टार के रूप में स्थापित किया। लगभग 150 से अधिक फिल्मों का निर्देशन कर चुके ससी की फिल्मों में ममूट्टी ने तीन दर्जन से अधिक फिल्मों में काम किया।

ससी द्वारा निर्देशित और रंजीत द्वारा लिखित 'देवसुरम' मोहनलाल की हिट फिल्म थी। दोनों कलाकारों ने ससी के निर्देशन में एक दर्जन से अधिक फिल्मों में काम किया।

मनोरंजन से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

ससी ने वर्ष 2003 में अपना आखिरी जादू बिखेरा, जब 'बलराम वर्सेस थरदास' को बेहतरीन सफलता मिली। इसके बाद उन्होंने एक और फिल्म पर काम किया।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top