विश्व पुस्तक मेला : ‘गंदी बात’ का लोकार्पण

विश्व पुस्तक मेला : ‘गंदी बात’ का लोकार्पणनई दिल्ली पुस्तक मेले में पुस्तकें खरीदते पुस्तक प्रेमी।

नई दिल्ली (आईएएनएस)| विश्व पुस्तक मेले के आठवें दिन राजकमल प्रकाशन के मंच पर शनिवार को क्षितिज रॉय के उपन्यास 'गंदी बात' और अल्पना मिश्र की किताब 'स्याही में सुर्खाब के पंख' का लोकर्पण हुआ। लेखिका ने अपने उपन्यास पर प्रेम भारद्वाज से बातचीत की।

उपन्यास 'गंदी बात' का लोकार्पण गीतकार प्रशांत इंगोले और प्रशांत कश्यप ने किया। उन्होंने लेखक से किताब पर चर्चा की। इंगोले फिल्म 'मैरी कॉम' और 'बाजीराव मस्तानी' के गानों के लिए जाने जाते हैं। 'गंदी बात' राधाकृष्ण प्रकाशन के 'फंडा' उपक्रम से प्रकाशित है। 'फंडा' आम पाठकों के लिए मनोरंजन प्रधान, स्तरीय कथा साहित्य का प्रकाशन करता आया है।

बातचीत के दौरान प्रशांत इंगोले ने कहा, "लोग समझते हैं कि मैं हिंदी भाषा में कमजोर हूं और कहते हैं कि फिर कैसे मैंने फिल्म 'बाजीराव मस्तानी' का सुपरहिट गाना 'मल्हारी' लिखा। मैं यहां यह बताना चाहता हूं कि मेरी हिंदी जरूर कमजोर है, मगर भारत में हूं तो बोलचाल की हिंदी मुझे अच्छी तरह आती है, जिस तरह हर भारतीय को आती है।"

'गंदी बात' उपन्यास के बारे में उन्होंने कहा, "किताब मैंने अभी तक पढ़ी नहीं है, मगर उपन्यास का शीर्षक देखकर कह रहा हूं कि इसे मैं जरूर पढूंगा और मेरे तरफ से लेखक को उनके उपन्यास के लिए बहुत बहुत बधाई।"

लेखक क्षितिज रॉय ने कहा, "गंदी बात वह नहीं जो सब लोग समझते हैं। आज के जमाने मे गंदी बात हर जगह है, राजनीति से लेकर क्रिकेट के मैदान तक, बच्चों से लेकर बूढ़ों तक, जिसे कहते हैं सब गंदी बात। वाकई में क्या होती है वह गंदी सी कोई बात।" साथ ही उन्होंने कहा, "किताब को पढ़िए आपको जरूर पता चलेगा कहां-कहां है गंदी बात।"

Share it
Top