परिवार के अलावा सिर्फ करण मुझे अच्छी तरह समझता है: शाहरुख खान 

परिवार के अलावा सिर्फ करण मुझे अच्छी तरह समझता है: शाहरुख खान शाहरुख खान ने ‘ऐ दिल है मुश्किल’ फिल्म के निर्देशक करण को ‘अद्भुत प्रतिभा वाला संवेदनशील व्यक्ति’ बताया।

मुंबई (भाषा)। सुपरस्टार शाहरुख खान का कहना है कि परिवार के अलावा सिर्फ उनके फिल्म निर्माता दोस्त करण जौहर उन्हें अच्छी तरह समझ सकते हैं। फिल्म इंडस्टरी में अपने शुरुआती दिनों से ही करण के करीबी रहे 51 वर्षीय अभिनेता ने ‘ऐ दिल है मुश्किल' फिल्म के निर्देशक करण को ‘अद्भुत प्रतिभा वाला संवेदनशील व्यक्ति' बताया।

शाहरुख ने करन की आत्मकथा ‘एन अनसूटेबल बॉय' के कल शाम यहां हुए विमोचन के मौके पर हृदयस्पर्शी संबोधन में कहा कि किताब का नाम कुछ और हो सकता है जैसे ‘दि गुड बॉय', ‘दि इंटेलिजेंट बॉय' या ‘दि ब्यूटीफुल बॉय'।

मुझे लगता है कि वह काफी संवेदनशील व्यक्ति है जो किताब का नाम हो सकता है। मैं अपनी भावनाओं को व्यक्त नहीं कर सकता। मैं अति संवेदनशील हूं, मैं उलझा हुआ व्यक्ति हूं, लेकिन मुझे लगता है कि परिवार के अलावा जो यह बता सकता है कि मैं क्या महसूस कर रहा हूं वह सिर्फ करण है।
शाहरुख खान, अभिनेता

उन्होंने कहा, ‘‘वह समझ सकता है कि आपके मन में क्या चल रहा है। वह अत्यधिक प्रतिभाशाली संवेदनशील व्यक्ति है।'' शाहरुख ने कहा, ''किताब का नाम ‘द ब्रेव बॉय' हो सकता है। मैं दृढ़ विश्वास के साथ यह कह सकता हूं। वह (करण) बहुत अलग है और सिर्फ अनोखे रुप में नहीं। हमारे देश में, जिस दुनिया में हम जीते हैं और जिस समाज का सामना हमें करना पड़ता है, उसमें अलग होना मुश्किल है।''

शाहरुख ने कहा, ‘‘जोश और संयम के साथ करण ने जो किया उसे हासिल करना बड़ी उपलब्धियों से परे है। अलग होने के कारण इस दुनिया में दृढ़ता और आजादी से दौड़ना बहुत खास बात है।'' करण के साथ अपने फिल्मी करियर में कई बड़ी हिट फिल्में देने वाले शाहरख ने कहा कि उन्होंने अपने जीवन में जितने लोग देखे हैं उनमें से करण सबसे खूबसूरत व्यक्ति रहेंगे।

करण की यह किताब खबरों में है जिसमें उन्होंने अपनी करीबी दोस्त काजोल के साथ संबंधों में आयी खटास, शाहरुख के साथ रिश्तों में आये उतार-चढ़ाव और अपनी फिल्मों को अक्सर मिले अभिजात्य वर्ग के तमगे के बारे में बताया है। इस किताब की सह लेखक पूनम सक्सेना हैं।

इस मौके पर आलिया भट्ट, सिद्धार्थ मल्होत्रा, शकुन बत्रा, अयान मुखर्जी समेत करण के कई करीबी दोस्त मौजूद थे। इस किताब में 44 वर्षीय करण ने दक्षिण मुंबई के फिल्मी परिवार में परवरिश और इंडस्टरी में आने को लेकर अपनी शुरआती हिचक के बारे में विस्तार से बताया है।

Share it
Top