अनुष्का शंकर के हाथ से छठी बार फिसला ग्रैमी पुरस्कार, वायलिन वादक यो यो मा से खाई मात

अनुष्का शंकर के हाथ से छठी बार फिसला ग्रैमी पुरस्कार, वायलिन वादक यो यो मा से खाई मातभारतीय सितारवादक अनुष्का शंकर।

लॉस एंजिलिस (भाषा)। भारतीय सितारवादक अनुष्का शंकर छठी बार भी अपने विश्व संगीत नामांकन को ग्रैमी पुरस्कार में तब्दील करने में नाकामयाब रहीं। वायलिन वादक यो यो मा ने उन्हें मात देते हुए इस साल का ग्रैमी अपने नाम किया।

यो यो मा को सर्वश्रेष्ठ विश्व संगीत एल्बम श्रेणी में उनकी एल्बम ‘सिंग मी होम' के लिए नवाजा गया। उनका यह 19वां ग्रैमी पुरस्कार है। अनुष्का (35 वर्ष) को उनकी एल्बम ‘लैंड ऑफ गोल्ड' के लिए नामित किया गया था जो वैश्विक शरणार्थी संकट पर आधारति है। संगीत समारोह में अनुष्का अपने पति एवं ब्रिटिश निर्देशक जो राइट के साथ पहुंची थी।

उन्होेंने अपने पति जो राइट के बारे में ट्वीट किया, ‘‘ काफी उत्साहित हूं कि यह शख्स आज रात मेरे साथ है...पहली बार इनके पास मेरे साथ आने का समय था...। '' अनुष्का ने यहां सब्यसाची का लाल रंग का गाउन पहना था।

अनुष्का मशहूर सितार वादक पंडित रवि शंकर की बेटी हैं. 20 साल की उम्र में उन्हें पहली बार ग्रैमी पुरस्कार के लिए नामित किया गया था। बहरहाल उनके दिवंगत पिता के नाम दो व्यक्तिगत और दो साझा ग्रैमी पुरस्कार हैं।

Share it
Top