नारीवाद का मतलब पुरुषों को धमकाना नहीं : प्रियंका

नारीवाद का मतलब पुरुषों को धमकाना नहीं : प्रियंकाप्रियंका चोपड़ा

लॉस एंजेलिस (आईएएनएस)। अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा ने खुद को नारीवादी बताया और कहा कि लोगों को यह नहीं सोचना चाहिए कि इस शब्द का मतलब पुरुषों को धमकाना या उनसे नफरत करना होता है। प्रियंका ने वेरायटी डॉट कॉम से कहा, "नारीवाद का मतलब यह नहीं है कि आप पुरुषों को धमकाएं, उनसे नफरत करें या यह सुनिश्चित करने की कोशिश करें कि हम उनसे बेहतर हैं।"

उन्होंने आगे कहा, "नारीवाद का मतलब यह कि जो निर्णय मैं लेती हूं उसके आधार पर आंके बगैर मुझे अवसर दीजिए, जिसकी आजादी पुरुष वर्ग को सदियों से मिली हुई है। नारीवाद को पुरुषों की आवश्यकता है।" प्रियंका तब निराश महसूस करती हैं, जब कोई नारीवाद को नकारता है।

ये भी पढ़ें -विश्व बालिका दिवस : जब एक लड़की ने गीत के जरिये बयां किया लड़कियों का दर्द, देखें वीडियो

उन्होंने कहा, "मेरी बहुत-सी ऐसी दोस्त हैं, जो कहती हैं कि वह नारीवादी नहीं है। मैं यह समझ नहीं पाती हूं। नारीवाद की आवश्यकता ही इसलिए है, क्योंकि महिलाओं को समान अधिकार नहीं थे। इसलिए यहां कोई मनुष्यवाद नहीं है, क्योंकि उनके पास यह हमेशा से था।" प्रियंका ने कहा कि उनके माता-पिता ने उनकी परवरिश एक खुले विचार का इंसान बनने के लिए की थी।

ये भी पढ़ें -अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस के मौके पर इन बेटियों को अधिकारियों ने एक दिन के लिए सौपें अपने पदभार

उन्होंने कहा, "मेरी परवरिश निडर बनने के लिए की गई थी। मेरे पिता मुझसे हमेशा कहते थे कि महिलाओं को हमेशा से सही तरीके से रहने, सही कपड़े पहनने या सही से बात करने को कहा जाता है। लेकिन मेरे माता-पिता हमेशा कहते थे कि हमें अपनी परवरिश में भरोसा है, तुम ठीक रहोगी।"

ये भी पढ़ें -

लड़कियों का सपना पूरा करने में मदद करें माता-पिता : तेंदुलकर

17 वर्षीय मानसी स्वच्छ भारत अभियान को दे रही नई उड़ान

शहर की नौकरी छोड़ गाँव में बना रहे टोमैटो सॉस, साल की कमाई 30 लाख

मिसाल : मजहब की बेड़ियां तोड़ पिच पर उतरीं कश्मीरी महिला क्रिकेटर

Share it
Top