मछली की नर्सरी तैयार करने के लिए मिलेगा अनुदान

दिति बाजपेईदिति बाजपेई   10 July 2016 5:30 AM GMT

मछली की नर्सरी तैयार करने के लिए मिलेगा अनुदानgaonconnection

लखनऊ। मछली पालकों को अब मछली के बीज के लिए भटकना न पड़े इसके लिए भारत सरकार जल्द ही मत्स्य नर्सरी योजना शुरु करने जा रही है। इस योजना में मछली पालक को 25 हज़ार रुपए लगाने होंगे और 25 हज़ार रुपए सरकार द्वारा दिये जाएंगे।

मछली पालकों को नर्सरी तैयार करके दो तरह से लाभ कमा सकेंगे। पहला नर्सरी में बीज पैदा कर उसे बेचने से और दूसरा मछली का उत्पादन कर उसे बेचकर अच्छी आय कमा सकते हैं। इस योजना का प्रस्ताव मत्स्य विभाग द्वारा शासन को भेजा गया है।

मत्स्य विभाग की इस तकनीक से नर्सरी से एक साल में अच्छी कमाई की जा सकती है। इस योजना के बारे में लखनऊ स्थित मत्स्य विभाग के सहायक निदेशक हरेंद्र प्रसाद ने बताया, “इस योजना का उद्देश्य है कि हर तालाब के पास नर्सरी हो ताकि अच्छी गुणवत्ता का और ज्यादा से ज्यादा बीज उत्पादन किया जा सके। एक हेक्टेयर के तालाब में नर्सरी शुरु की जा सकती है जिसके लिए सरकार 50 फीसदी अनुदान देगी। इस एक हेक्टेयर तालाब से लगभग तीन टन बीज और लगभग पांच टन से ज्यादा मछली उत्पादन किया जा सकता है।”

मछली का बीज तीन महीने में विकसित होकर बिक्री योग्य हो जाता है। वही मछली को विकसित होने में छह से नौ महीने का समय लगता है। प्रस्ताव के बारे में हरेंद्र बताते हैं, “योजना का प्रस्ताव शासन को भेजा गया है बजट आते ही इस योजना को जल्द ही प्रदेश के सभी जनपदों में लागू किया जाएगा। इस योजना का लाभ मछलीपालकों को किस आधार पर मिलेगा इसकी गाइडलाइन भी शासन द्वारा ही तय की जाएगी।”

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top