आइये बात करें टुन टुन की

आज टुन टुन के जन्मदिन पर सुनिए उनकी पूरी कहानी जमशेद क़मर सिद्दीकी की जुबानी

बात उस दौर की है, जब कॉमेडी सिर्फ मर्दों के करने चीज़ मानी जाती थी लेकिन उसी दौर में, साल 1946 में यूपी की रहने वाली एक लड़की जिसका नाम उमा देवी खत्री था इस सोच को चुनौती देने के लिए बंबई आई और कुछ सालों बाद उस महिला को पूरी दुनिया ने टुन-टुन के नाम से पहचाना।


Share it
Top