अब आप नहीं सुन सकेंगे ‘नाइटिंगेल ऑफ कश्मीर’ की प्यारी आवाज

Sanjay SrivastavaSanjay Srivastava   26 Oct 2016 7:34 PM GMT

अब आप नहीं सुन सकेंगे ‘नाइटिंगेल ऑफ कश्मीर’ की प्यारी आवाजपद्मश्री से सम्मानित प्रसिद्ध कश्मीरी गायिका राज बेगम।

श्रीनगर (भाषा)। पद्मश्री से सम्मानित प्रसिद्ध कश्मीरी गायिका राज बेगम (89 वर्ष ) का आज सुबह यहां निधन हो गया, जिन्हें उनकी खूबसूरत आवाज के लिए ‘नाइटिंगेल ऑफ कश्मीर' कहा जाता है। राज बेगम ने यहां के चानापोरा इलाके में अपनी बेटी के घर पर अंतिम सांस ली। बेटी के अलावा उनके दो पुत्र हैं।

27 मार्च 1927 को जन्मी राज बेगम ने शादी विवाह समारोहों से गायन की शुरुआत की थी और कश्मीर की सबसे अधिक लोकप्रिय महिला गायिकाओं में शामिल हो गईं। बेगम के पिता ने उनकी गायन प्रतिभा को तराशा और 1954 में वह रेडियो कश्मीर में काम करने लगीं। कुछ ही समय बाद स्टेशन से प्रमुखता के साथ उनके कार्यक्रमों का प्रसारण होने लगा।

राज बेगम की दिलकश आवाज ने कश्मीर के संगीत प्रेमियों के दिलों पर कई पीढ़ियों तक राज किया। उन्हें वर्ष 2002 में पद्मश्री से सम्मानित किया गया था। वर्ष 2013 में उन्हें संगीत अकादमी पुरस्कार से नवाजा गया। जम्मू-कश्मीर सरकार ने भी वर्ष 2009 में उन्हें सम्मानित किया था।

कश्मीर ने एक बेशकीमती आवाज खो दी है। बेगम के निधन को कश्मीर के संगीत इतिहास के एक महान कालखंड की समाप्ति कहा।
महबूबा मुफ्ती मुख्यमंत्री जम्मू कश्मीर (मशहूर गायिका के निधन पर शोक संदेश)

पूर्व मुख्यमंत्रियों फारूक अब्दुल्ला, गुलाम नबी आजाद और उमर अब्दुल्ला ने भी बेगम के निधन पर शोक संवेदना प्रकट की। आजाद की पत्नी और मशहूर गायिका शमीम देव ने कहा कि वह बेगम के निधन की खबर सुनकर स्तब्ध हैं।


More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top